शाहगढ़ 09/04/2022
महावीर जन्म कल्याणक महोत्सव वेदी प्रतिष्ठा महोत्सव मनाया जाएगा

शाहगढ़ जिला सागर ( मध्यप्रदेश) मे सर्व श्रेष्ठ साधक आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के शिष्य मुनि श्री विमल सागर जी महाराज मुनि श्री अनन्तसागर जी महाराज मुनि श्री धर्मसागर जी महाराज मुनि श्री भावसागर जी महाराज के सानिध्य मे एवं प्रतिष्ठाचार्य ब्रह्मचारी दीपक भैया जी टेहरका के निदेशन में 10 अप्रैल को प्रातः 8 बजे वेदी प्रतिष्ठा का पात्र चयन श्री पार्श्वनाथ दिगंबर जैन मंदिर ( सिंघई मंदिर) शाहगढ़ में होगा
14 अप्रैल 2022 गुरुवार को महावीर जयंती मनाई जाएगी।यह होंगे कार्यक्रम
प्रातः 6:00 बजे अभिषेक, शांतिधारा, पूजन (सभी मंदिरों में सीमित व्यक्तियों के द्वारा अलग-अलग), श्रीजी की शोभायात्रा यात्रा प्रातः 7:00 बजे संत निवास से गल्ला मंडी प्रांगण तक, 07:30 बजे श्री जी का सामूहिक अभिषेक,सामूहिक संगीतमय पूजन, मुनि श्री की दिव्य देशना , श्री जी की शोभायात्रा (गल्लामंडी प्रांगण से कालीचौराहा होते हुए सिंघई मंदिर जी तक ) | रात्रि 8:00 बजे महाआरती , रात्रि 9:00 बजे सांस्कृतिक कार्यक्रम (पाठशाला के बच्चों के द्वारा महावीर भगवान के जन्म कल्याणक पर विशेष प्रस्तुति सिंघई मंदिर परिसर में होगी फिर वेदी प्रतिष्ठा महोत्सव इस प्रकार होगा

20 अप्रैल 2022- बुधवार
प्रातः 6:30 बजे- मंगलाष्टक, अभिषेक, शांतिधारा, पूजन, घट यात्रा, ध्वजारोहण मुनि श्री की दिव्य देशना, नवीन वेदिका शुद्धि |
रात्रि 7:40-बजे महाआरती ,
रात्रि 8:30 बजे शास्त्र प्रवचन भैया जी के द्वारा
रात्रि 9:00 बजे सांस्कृतिक कार्यक्रम|
21अप्रैल 2022 गुरुवार
प्रातः 6:30 बजे- मंगलाष्टक,अभिषेक, शांतिधारा, पूजन, याज्ञ मण्डल विधान मुनि श्री की दिव्य देशना |
रात्रि 7:40 बजे महाआरती ,
रात्रि 8:30 बजे शास्त्र प्रवचन भैया जी के द्वारा
रात्रि 9:00 बजे सांस्कृतिक कार्यक्रम
22 अप्रैल 2022 शुक्रवार
प्रातः 6:30 बजे मंगलाष्टक, अभिषेक, शांतिधारा, पूजन, नवीन बेदी पर श्रीजी विराजमान, मुनि श्री की दिव्य देशना तदोपरांत विश्वशांति महायज्ञ(हवन), श्री जी की शोभायात्रा (प्रातः 9 बजे), सकल दिगंबर जैन समाज का सामूहिक भोज (प्रातः 10 बजे से)
दोपहर 2:00 बजे-
त्रय मुनिराजो का 24 वां मुनि दीक्षा दिवस समारोह सम्पन होगा मुनि श्री विमल सागर जी ,
मुनि श्री अनंत सागर जी,
मुनि श्री धर्म सागर जी का 24 वॉ मुनि दीक्षा दिवस है जिसमे विशेष पाद प्रक्षालन , आचार्य श्री की महापूजन , शास्त्र अर्पण , सांस्कृतिक प्रस्तुति, मुनिराजो के प्रवचन ,गुरु महिमा गुणगान एवं आभार प्रदर्शन आदि होगा।

About The Author