🎪🎪आचार्य संघ एवं उपसंघ सूची

❄संत शिरोमणि अपडेट❄
सन्त शिरोमणि ,आचार्य भगवन् के संघ और उपसंघ की जानकारी(संभावित)
१८-१२-२०२०
📿📿📿📿📿📿📿📿
🎪 प पू संत शिरोमणि आचार्य श्री विद्या सागर जी महामुनिराज
प पू मुनि श्री १०८ सौम्य सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ दुर्लभ सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ नीरोग सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निरामय सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ शीतल सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ श्रमण सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ संधान सागर जी महाराज
(८ मुनिराज) ससंघ
श्री सिद्धोदय सिद्ध क्षेत्र नेमावर में विराजमान है ।
🎪 प.पू. निर्यापक श्रमण मुनि श्री १०८ समय सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ प्रशस्त सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ मल्लि सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ आनंद सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निर्ग्रंथ सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निर्भ्रांत सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निरालस सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निराश्रव सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निराकार सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निश्चिंत सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निर्माण सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निशंक सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निरंजन सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निर्लेप सागर जी महाराज
(१४ मुनिराज) ससंघ
शान्तिधाम बिना बारह में विराजमान है।
🎪 प.पू. निर्यापक श्रमण मुनि श्री १०८ योग सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ अक्षय सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ पूज्य सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ नेमि सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ अतुल सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निस्सीम सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ शाश्वत सागर जी महाराज
प पू क्षुल्लक श्री १०५ समता भूषण सागर जी महाराज
(७ मुनिराज, १ क्षुल्लक) ससंघ का
जिंतुर से मंगल विहार हुआ।
सम्भावित विहार दिशा :- सेनगाव
🎪 प पू निर्यापक श्रमण मुनि श्री १०८ नियम सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ अभिनन्दन सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ ऋषभ सागर जी महाराज
प पू क्षुल्लक श्री १०५ सयंम सागर जी महाराज
(३ मुनिराज, १ क्षुल्लक) ससंघ
तिगडोली(कर्नाटक) में विराजमान है।
🎪 प पू निर्यापक श्रमण मुनिपुंगव श्री १०८ सुधा सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ महा सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निष्कंप सागर जी महाराज
प पू क्षुल्लक श्री १०५ धैर्य सागर जी महाराज
प पू क्षुल्लक श्री १०५ गम्भीर सागर जी महाराज
(३मुनिराज २ क्षुल्लक) ससंघ
बिजौलिया में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ समता सागर जी महाराज
प पू एलक श्री १०५ निश्चय सागर जी महाराज
(१ मुनिराज १ ऐलक) ससंघ
शीतल धाम विदिशा में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ समाधि सागर जी महाराज
(१ मुनिराज) ससंघ
हस्तिनापुर में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ सरल सागर जी महाराज
(१ मुनिराज) ससंघ
बबीना में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ प्रमाण सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ अरह सागर जी महाराज
(२ मुनिराज) ससंघ का
बिलहरी से मंगल विहार हुआ।
सम्भावित विहार दिशा :- जबलपुर
🎪 प पू मुनि श्री १०८ मार्दव सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८भद्र सागर जी महाराज
(२ मुनिराज) ससंघ
पानीगांव में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ पवित्र सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ प्रयोग सागर जी महाराज
(२ मुनिराज) ससंघ
वर्धा में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ पावन सागर जी महाराज
(१ मुनिराज) ससंघ
बेहरोज अलवर में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ सुख सागर जी महाराज
(१ मुनिराज) ससंघ
कुडची में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ प्रशान्त सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निर्वेग सागर जी महाराज
प पू क्षुल्लक श्री १०५ देवानन्द जी महाराज
(२ मुनिराज ,१ क्षुल्लक) ससंघ
बण्डा में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ विनीत सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ चन्द्रप्रभ सागर जी महाराज
(२ मुनिराज) ससंघ
अजमेर में विराजमान है ।
🎪 प पू मुनी श्री १०८ निर्णय सागर जी महाराज
प पु एकल श्री १०५ क्षिर सागर जी महाराज
(१ मुनिराज, १ एलक जी ) ससंघ
सुल्तानपुर में विराजमान है
🎪 प पू मुनि १०८ प्रबुद्ध सागरजी महाराज
(१ मुनिराज) ससंघ
गोटेगांव में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि १०८ पूण्य सागरजी महाराज
(१ मुनिराज) ससंघ
अरातला में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि १०८ पाय सागरजी महाराज
प पू क्षुल्लक १०५ सन्मार्ग सागरजी महाराज
(१ मुनिराज, १ क्षुल्लक जी) ससंघ
बननिकोप्पा में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ प्रसाद सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ उत्तम सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ शैल सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ पुराण सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निकलंक सागर जी महाराज
(५ मुनिराज) ससंघ
थुबोनजी में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ अभय सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ प्रभात सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निरीह सागर जी महाराज
( ३मुनिराज) ससंघ
आरोन में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ प्रबोध सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ सुपार्श्व सागर जी महाराज
(२ मुनिराज) ससंघ
भोसे में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ प्रणम्य सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ चन्द्र सागर जी महाराज
(२ मुनिराज) ससंघ
मुज्जफरनगर में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ अजित सागर जी महाराज
प पू एलक श्री १०५ दया सागर जी महाराज
प पू एलक श्री १०५ विवेकानन्द सागर जी महाराज
(१ मुनिराज ,२ एलक) ससंघ
समसगढ में विराजमान है।
संभावित विहार दिशा :- भोपाल
🎪 प पू मुनि श्री १०८ सम्भव सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ विराट सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निर्मोह सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निष्पक्ष सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निष्पन्द सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निष्काम सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ नीरज सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निसंग सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ समरस सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ संस्कार सागर जी महाराज
(१० मुनिराज) ससंघ
शुजालपुर में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ पदम् सागर जी महाराज
(१ मुनिराज ) ससंघ
चंदेरी में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ श्रेयांस सागर जी महाराज
प पू क्षुल्लक श्री १०५ निजात्म जी महाराज
(१ मुनिराज ,१क्षुूल्लक ) ससंघ
सानोधा में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ विमल सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ अनन्त सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ धर्म सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ अचल सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ भाव सागर जी महाराज
( ५ मुनिराज) ससंघ
खिमलासा में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ कुन्थु सागर जी महाराज
(१ मुनिराज ) ससंघ
बेगमगंज में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ सुव्रत सागर जी महाराज
(१ मुनिराज) ससंघ का
शिवपुरी में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ वीर सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ विशाल सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ धवल सागर जी महाराज
(३ मुनिराज) ससंघ
सरधाना में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ आगम सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ पुनीत सागर जी महाराज
प पू मुनिश्री १०८ सहज सागरजी महाराज
(३ मुनिराज) ससंघ
मालगांव(कोल्हापुर) में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ अविचल सागर जी महाराज
(१ मुनिराज) ससंघ
सोनागिर में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ विशद सागर जी महाराज
(१ मुनिराज) ससंघ
आष्टा में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ विन्रम सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निस्वार्थ सागर जी महाराज
प पू मुनिश्री १०८ निष्पर्ह सागरजी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निश्चल सागर जी महाराज
प पू मुनिश्री १०८ निर्भीक सागरजी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ नीराग सागर जी महाराज
प पू मुनिश्री १०८ निर्मद सागरजी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निसर्ग सागर जी महाराज
प पू मुनिश्री १०८ ओमकार सागरजी महाराज
(९ मुनिराज) ससंघ
मनावर में विराजमान है।
सम्भावित विहार दिशा :- बावनगजा
🎪 प पू मुनि श्री १०८ निर्दोष सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निर्लोभ सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निरापद सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निराकुल सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निरुपम सागर जी महाराज
(५ मुनिराज) ससंघ
मनावर में विराजमान है।
सम्भावित विहार दिशा :- बावनगजा
🏵🏵🏵🏵🏵🏵🏵🏵
आर्यिका संघ
🎪 प पू आर्यिका श्री १०५ गुरूमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ चिन्तनमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५सूत्रमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ शीलमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ सारमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ साकारमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ सौम्यमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ शांतमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ सुशांतमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ जाग्रतमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ कर्तव्यमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ निष्काममति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ विरतमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ तथामति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ चैत्यमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ पुनीतमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ उपशममति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ ध्रुवमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ पारमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ आगतमति माताजी
प पू आर्यिका श्री१०५ श्रुतमति माताजी
(२१ आर्यिका माताजी) ससंघ
नागपुर में विराजमान है।
🎪 प पू आर्यिका श्री १०५ दृढ़मति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ पावनमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ साधनामति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ विलक्षणामति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ वैराग्यमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अकलंकमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ निकलंकमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ आगममति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ स्वाध्यायमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ प्रशममति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ मुदितमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ सहजमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ संयममति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ सत्यार्थमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ सिद्धमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ समुन्नतमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ शास्त्रमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ तथ्यमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ वात्सल्यमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ पथ्यमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ संस्कारमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ विजितमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ आप्तमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ स्वभावमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ धवलमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ समितिमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ मननमति माताजी
(२७ आर्यिका माताजी) ससंघ
गढ़ा जबलपुर में विराजमान हे।
🎪 प पू आर्यिका श्री १०५ मृदुमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ निर्णयमति माताजी
(२ आर्यिका माताजी) ससंघ
पिंडरई में विराजमान है।
🎪 प पू आर्यिका श्री १०५ ऋजुमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ सरलमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ शीलमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ असीममति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ गौतममति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ निर्वाणमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ मार्दवमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ मंगलमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ चारित्रमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ श्रद्धामति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ उत्कर्षमति माताजी
(११ आर्यिका माताजी) ससंघ
कुण्डलपुर में विराजमान है।
🎪 प पू आर्यिका श्री १०५ तपोमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ सिद्धांतमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ नम्रमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ विनम्रमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अतुलमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अनुगममती माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ उचितमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ विनयमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ संगतमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ लक्ष्यमति माताजी
(१० आर्यिका माताजी) ससंघ
चन्द्रगिरि डोंगरगढ़ में विराजमान हे।
🎪 प पू आर्यिका श्री १०५ सत्यमति माताजी
(१आर्यिका माताजी) ससंघ
निवार में विराजमान है।
🎪 प पू आर्यिका श्री १०५ गुणमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ ध्येयमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ आत्ममति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ संयतमति माताजी
(४आर्यिका माताजी) ससंघ
शाहपुर(गणेशगंज) में विराजमान है।
🎪 प पू आर्यिका श्री १०५ प्रशांतमती माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ विनतमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ विशुद्धमति माताजी
(३ आर्यिका माताजी) ससंघ
शाहगढ़ में विराजमान है।
🎪 प पू आर्यिका श्री १०५ पूर्णमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ शुभ्रमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ साधुमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ विशदमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ विपुलमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ मधुरमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ कैवल्यमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ सतर्कमति माताजी
(८ आर्यिका माताजी) ससंघ
कुण्डलपुर मैं विराजमान है।
🎪 प पू आर्यिका श्री १०५ अनन्तमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ विमलमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ निर्मलमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ शुक्लमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ भावनामति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ आलोकमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ संवेगमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ निर्वेगमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ सविनयमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ समयमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ शोधमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ शाश्वतमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ सुशीलमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ सुसिद्धमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ सदयमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ उदारमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ संतुष्टमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ निकटमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अमितमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ निसर्गमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ भक्तिमति माताजी
(२१ आर्यिका माताजी) ससंघ
बण्डा में विराजमान है।
🎪 प पू आर्यिका श्री १०५ कुशलमति माताजी
(१आर्यिका माताजी) ससंघ
खितौली में विराजमान है।
🎪 प पू आर्यिका श्री १०५ धारणामति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ शैलमति माताजी
( २ आर्यिका माताजी) ससंघ
शाहपुर में विराजमान है।
🎪 प पू आर्यिका श्री १०५ आदर्शमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ दुर्लभमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अंतर मति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अनुनय मति माताजी
प पूआर्यिका श्री १०५अनुग्रह मति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अक्षयमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अमूर्तमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अखण्डमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अनूपम मति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अनर्घमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अनुभवमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ आनंदमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अधिगममति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अमंदमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अभेदमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ श्वेतमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ उद्योत मति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ स्वस्थमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ गंतव्यमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ संवरमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ पृथ्वी मति माताजी
प पूआर्यिका श्री १०५ निर्मदमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ विनीतमती माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ मेरुमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ परमार्थमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ ध्यानमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ विदेहमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अवाय मति माताजी
प पूआर्यिका श्री १०५ अदूरमति माताजी
(२९ आर्यिका माताजी) ससंघ
पपौरा जी में विराजमान है।
🎪 प पू आर्यिका श्री १०५ अपूर्वमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अनुत्तरमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अगाधमति माताजी
(३आर्यिका माताजी) ससंघ
सिरोंज में विराजमान है।
🎪 प पू आर्यिका श्री १०५ उपशांतमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ ओंकारमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ परममति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ चेतनमति माताजी
(४ आर्यिका माताजी) ससंघ
कुंडलपुर में विराजमान है।
🎪 प पू आर्यिका श्री १०५ अकम्पमती माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अमूल्यमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ आराध्यमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अचिन्त्यमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अलोल्यमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अनमोलमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ आज्ञामति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अचलमति माताजी
(८ आर्यिका माताजी) ससंघ
करेली में विराजमान है।🎪🎪आचार्य संघ एवं उपसंघ सूची
❄संत शिरोमणि अपडेट❄
सन्त शिरोमणि ,आचार्य भगवन् के संघ और उपसंघ की जानकारी(संभावित)
१८-१२-२०२०
📿📿📿📿📿📿📿📿
🎪 प पू संत शिरोमणि आचार्य श्री विद्या सागर जी महामुनिराज
प पू मुनि श्री १०८ सौम्य सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ दुर्लभ सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ नीरोग सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निरामय सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ शीतल सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ श्रमण सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ संधान सागर जी महाराज
(८ मुनिराज) ससंघ
श्री सिद्धोदय सिद्ध क्षेत्र नेमावर में विराजमान है ।
🎪 प.पू. निर्यापक श्रमण मुनि श्री १०८ समय सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ प्रशस्त सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ मल्लि सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ आनंद सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निर्ग्रंथ सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निर्भ्रांत सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निरालस सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निराश्रव सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निराकार सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निश्चिंत सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निर्माण सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निशंक सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निरंजन सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निर्लेप सागर जी महाराज
(१४ मुनिराज) ससंघ
शान्तिधाम बिना बारह में विराजमान है।
🎪 प.पू. निर्यापक श्रमण मुनि श्री १०८ योग सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ अक्षय सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ पूज्य सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ नेमि सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ अतुल सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निस्सीम सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ शाश्वत सागर जी महाराज
प पू क्षुल्लक श्री १०५ समता भूषण सागर जी महाराज
(७ मुनिराज, १ क्षुल्लक) ससंघ का
जिंतुर से मंगल विहार हुआ।
सम्भावित विहार दिशा :- सेनगाव
🎪 प पू निर्यापक श्रमण मुनि श्री १०८ नियम सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ अभिनन्दन सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ ऋषभ सागर जी महाराज
प पू क्षुल्लक श्री १०५ सयंम सागर जी महाराज
(३ मुनिराज, १ क्षुल्लक) ससंघ
तिगडोली(कर्नाटक) में विराजमान है।
🎪 प पू निर्यापक श्रमण मुनिपुंगव श्री १०८ सुधा सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ महा सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निष्कंप सागर जी महाराज
प पू क्षुल्लक श्री १०५ धैर्य सागर जी महाराज
प पू क्षुल्लक श्री १०५ गम्भीर सागर जी महाराज
(३मुनिराज २ क्षुल्लक) ससंघ
बिजौलिया में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ समता सागर जी महाराज
प पू एलक श्री १०५ निश्चय सागर जी महाराज
(१ मुनिराज १ ऐलक) ससंघ
शीतल धाम विदिशा में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ समाधि सागर जी महाराज
(१ मुनिराज) ससंघ
हस्तिनापुर में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ सरल सागर जी महाराज
(१ मुनिराज) ससंघ
बबीना में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ प्रमाण सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ अरह सागर जी महाराज
(२ मुनिराज) ससंघ का
बिलहरी से मंगल विहार हुआ।
सम्भावित विहार दिशा :- जबलपुर
🎪 प पू मुनि श्री १०८ मार्दव सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८भद्र सागर जी महाराज
(२ मुनिराज) ससंघ
पानीगांव में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ पवित्र सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ प्रयोग सागर जी महाराज
(२ मुनिराज) ससंघ
वर्धा में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ पावन सागर जी महाराज
(१ मुनिराज) ससंघ
बेहरोज अलवर में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ सुख सागर जी महाराज
(१ मुनिराज) ससंघ
कुडची में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ प्रशान्त सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निर्वेग सागर जी महाराज
प पू क्षुल्लक श्री १०५ देवानन्द जी महाराज
(२ मुनिराज ,१ क्षुल्लक) ससंघ
बण्डा में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ विनीत सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ चन्द्रप्रभ सागर जी महाराज
(२ मुनिराज) ससंघ
अजमेर में विराजमान है ।
🎪 प पू मुनी श्री १०८ निर्णय सागर जी महाराज
प पु एकल श्री १०५ क्षिर सागर जी महाराज
(१ मुनिराज, १ एलक जी ) ससंघ
सुल्तानपुर में विराजमान है
🎪 प पू मुनि १०८ प्रबुद्ध सागरजी महाराज
(१ मुनिराज) ससंघ
गोटेगांव में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि १०८ पूण्य सागरजी महाराज
(१ मुनिराज) ससंघ
अरातला में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि १०८ पाय सागरजी महाराज
प पू क्षुल्लक १०५ सन्मार्ग सागरजी महाराज
(१ मुनिराज, १ क्षुल्लक जी) ससंघ
बननिकोप्पा में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ प्रसाद सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ उत्तम सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ शैल सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ पुराण सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निकलंक सागर जी महाराज
(५ मुनिराज) ससंघ
थुबोनजी में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ अभय सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ प्रभात सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निरीह सागर जी महाराज
( ३मुनिराज) ससंघ
आरोन में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ प्रबोध सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ सुपार्श्व सागर जी महाराज
(२ मुनिराज) ससंघ
भोसे में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ प्रणम्य सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ चन्द्र सागर जी महाराज
(२ मुनिराज) ससंघ
मुज्जफरनगर में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ अजित सागर जी महाराज
प पू एलक श्री १०५ दया सागर जी महाराज
प पू एलक श्री १०५ विवेकानन्द सागर जी महाराज
(१ मुनिराज ,२ एलक) ससंघ
समसगढ में विराजमान है।
संभावित विहार दिशा :- भोपाल
🎪 प पू मुनि श्री १०८ सम्भव सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ विराट सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निर्मोह सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निष्पक्ष सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निष्पन्द सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निष्काम सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ नीरज सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निसंग सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ समरस सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ संस्कार सागर जी महाराज
(१० मुनिराज) ससंघ
शुजालपुर में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ पदम् सागर जी महाराज
(१ मुनिराज ) ससंघ
चंदेरी में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ श्रेयांस सागर जी महाराज
प पू क्षुल्लक श्री १०५ निजात्म जी महाराज
(१ मुनिराज ,१क्षुूल्लक ) ससंघ
सानोधा में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ विमल सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ अनन्त सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ धर्म सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ अचल सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ भाव सागर जी महाराज
( ५ मुनिराज) ससंघ
खिमलासा में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ कुन्थु सागर जी महाराज
(१ मुनिराज ) ससंघ
बेगमगंज में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ सुव्रत सागर जी महाराज
(१ मुनिराज) ससंघ का
शिवपुरी में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ वीर सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ विशाल सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ धवल सागर जी महाराज
(३ मुनिराज) ससंघ
सरधाना में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ आगम सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ पुनीत सागर जी महाराज
प पू मुनिश्री १०८ सहज सागरजी महाराज
(३ मुनिराज) ससंघ
मालगांव(कोल्हापुर) में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ अविचल सागर जी महाराज
(१ मुनिराज) ससंघ
सोनागिर में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ विशद सागर जी महाराज
(१ मुनिराज) ससंघ
आष्टा में विराजमान है।
🎪 प पू मुनि श्री १०८ विन्रम सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निस्वार्थ सागर जी महाराज
प पू मुनिश्री १०८ निष्पर्ह सागरजी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निश्चल सागर जी महाराज
प पू मुनिश्री १०८ निर्भीक सागरजी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ नीराग सागर जी महाराज
प पू मुनिश्री १०८ निर्मद सागरजी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निसर्ग सागर जी महाराज
प पू मुनिश्री १०८ ओमकार सागरजी महाराज
(९ मुनिराज) ससंघ
मनावर में विराजमान है।
सम्भावित विहार दिशा :- बावनगजा
🎪 प पू मुनि श्री १०८ निर्दोष सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निर्लोभ सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निरापद सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निराकुल सागर जी महाराज
प पू मुनि श्री १०८ निरुपम सागर जी महाराज
(५ मुनिराज) ससंघ
मनावर में विराजमान है।
सम्भावित विहार दिशा :- बावनगजा
🏵🏵🏵🏵🏵🏵🏵🏵
आर्यिका संघ
🎪 प पू आर्यिका श्री १०५ गुरूमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ चिन्तनमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५सूत्रमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ शीलमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ सारमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ साकारमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ सौम्यमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ शांतमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ सुशांतमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ जाग्रतमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ कर्तव्यमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ निष्काममति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ विरतमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ तथामति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ चैत्यमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ पुनीतमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ उपशममति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ ध्रुवमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ पारमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ आगतमति माताजी
प पू आर्यिका श्री१०५ श्रुतमति माताजी
(२१ आर्यिका माताजी) ससंघ
नागपुर में विराजमान है।
🎪 प पू आर्यिका श्री १०५ दृढ़मति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ पावनमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ साधनामति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ विलक्षणामति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ वैराग्यमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अकलंकमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ निकलंकमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ आगममति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ स्वाध्यायमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ प्रशममति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ मुदितमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ सहजमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ संयममति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ सत्यार्थमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ सिद्धमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ समुन्नतमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ शास्त्रमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ तथ्यमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ वात्सल्यमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ पथ्यमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ संस्कारमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ विजितमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ आप्तमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ स्वभावमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ धवलमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ समितिमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ मननमति माताजी
(२७ आर्यिका माताजी) ससंघ
गढ़ा जबलपुर में विराजमान हे।
🎪 प पू आर्यिका श्री १०५ मृदुमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ निर्णयमति माताजी
(२ आर्यिका माताजी) ससंघ
पिंडरई में विराजमान है।
🎪 प पू आर्यिका श्री १०५ ऋजुमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ सरलमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ शीलमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ असीममति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ गौतममति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ निर्वाणमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ मार्दवमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ मंगलमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ चारित्रमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ श्रद्धामति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ उत्कर्षमति माताजी
(११ आर्यिका माताजी) ससंघ
कुण्डलपुर में विराजमान है।
🎪 प पू आर्यिका श्री १०५ तपोमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ सिद्धांतमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ नम्रमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ विनम्रमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अतुलमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अनुगममती माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ उचितमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ विनयमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ संगतमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ लक्ष्यमति माताजी
(१० आर्यिका माताजी) ससंघ
चन्द्रगिरि डोंगरगढ़ में विराजमान हे।
🎪 प पू आर्यिका श्री १०५ सत्यमति माताजी
(१आर्यिका माताजी) ससंघ
निवार में विराजमान है।
🎪 प पू आर्यिका श्री १०५ गुणमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ ध्येयमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ आत्ममति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ संयतमति माताजी
(४आर्यिका माताजी) ससंघ
शाहपुर(गणेशगंज) में विराजमान है।
🎪 प पू आर्यिका श्री १०५ प्रशांतमती माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ विनतमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ विशुद्धमति माताजी
(३ आर्यिका माताजी) ससंघ
शाहगढ़ में विराजमान है।
🎪 प पू आर्यिका श्री १०५ पूर्णमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ शुभ्रमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ साधुमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ विशदमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ विपुलमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ मधुरमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ कैवल्यमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ सतर्कमति माताजी
(८ आर्यिका माताजी) ससंघ
कुण्डलपुर मैं विराजमान है।
🎪 प पू आर्यिका श्री १०५ अनन्तमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ विमलमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ निर्मलमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ शुक्लमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ भावनामति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ आलोकमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ संवेगमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ निर्वेगमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ सविनयमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ समयमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ शोधमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ शाश्वतमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ सुशीलमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ सुसिद्धमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ सदयमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ उदारमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ संतुष्टमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ निकटमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अमितमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ निसर्गमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ भक्तिमति माताजी
(२१ आर्यिका माताजी) ससंघ
बण्डा में विराजमान है।
🎪 प पू आर्यिका श्री १०५ कुशलमति माताजी
(१आर्यिका माताजी) ससंघ
खितौली में विराजमान है।
🎪 प पू आर्यिका श्री १०५ धारणामति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ शैलमति माताजी
( २ आर्यिका माताजी) ससंघ
शाहपुर में विराजमान है।
🎪 प पू आर्यिका श्री १०५ आदर्शमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ दुर्लभमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अंतर मति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अनुनय मति माताजी
प पूआर्यिका श्री १०५अनुग्रह मति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अक्षयमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अमूर्तमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अखण्डमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अनूपम मति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अनर्घमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अनुभवमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ आनंदमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अधिगममति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अमंदमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अभेदमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ श्वेतमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ उद्योत मति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ स्वस्थमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ गंतव्यमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ संवरमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ पृथ्वी मति माताजी
प पूआर्यिका श्री १०५ निर्मदमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ विनीतमती माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ मेरुमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ परमार्थमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ ध्यानमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ विदेहमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अवाय मति माताजी
प पूआर्यिका श्री १०५ अदूरमति माताजी
(२९ आर्यिका माताजी) ससंघ
पपौरा जी में विराजमान है।
🎪 प पू आर्यिका श्री १०५ अपूर्वमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अनुत्तरमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अगाधमति माताजी
(३आर्यिका माताजी) ससंघ
सिरोंज में विराजमान है।
🎪 प पू आर्यिका श्री १०५ उपशांतमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ ओंकारमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ परममति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ चेतनमति माताजी
(४ आर्यिका माताजी) ससंघ
कुंडलपुर में विराजमान है।
🎪 प पू आर्यिका श्री १०५ अकम्पमती माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अमूल्यमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ आराध्यमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अचिन्त्यमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अलोल्यमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अनमोलमति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ आज्ञामति माताजी
प पू आर्यिका श्री १०५ अचलमति माताजी
(८ आर्यिका माताजी) ससंघ
करेली में विराजमान है।

आराधना का महा आयोजन
श्री 1008 सिद्धचक्र महामण्डल विधान एवं विश्व शांति महायज्ञ

30 अक्टूबर से 7 नवंबर 2020 तक,
कार्यक्रम स्थल- बीना पब्लिक स्कूल छोटी बजरिया बीना जिला सागर (मप्र)|
मंगल आशीर्वाद – प्रातः स्मरणीय परम पूज्य दिगम्बर सरोवर के राजहंस आचार्य श्री १०८ विद्यासागर जी महामुनिराज
पावन सानिध्य– सौम्य मूर्ति
मुनि श्री 108 विमलसागर जी महाराज
मुनि श्री 108 अनन्तसागर जी महाराज
मुनि श्री 108 धर्मसागर जी महाराज
मुनि श्री 108 अचलसागर जी महाराज
मुनि श्री 108 भावसागर जी महाराज
मांगलिक कार्यक्रम 30 अक्टूबर 2020 शुक्रवारघटयात्रा श्री जी की शोभायात्रा दोपहर 2 बजे से 31 अक्टूबर 2020 शनिवारशरद पूर्णिमा गुरु गुणगान दिवस प्रातः 8 बजे ध्वजारोहण आचार्य श्री जी की विशेष पूजनमुनिराजों के प्रवचनप्रतिदिन प्रातः काल अभिषेक, शांतिधारा ,पूजन ,विधान ,मुनि श्री के प्रवचनशाम को 7 बजे मंगल आरती व रात्रि 8 बजे भैयाजी के द्वारा शास्त्र प्रवचन , विधानाचार्य, बा.ब्र. संजीव भैयाजी कटंगी विशेष निवेदन शासन प्रशासन के नियमों का पालन सभी करें एवं सोशल डिस्टेंस और मास्क का प्रयोग करें|
आयोजक सकल दिगंबर जैन समाज बीना जिला सागर (म प्र)
संपर्क सूत्र 9425381086 ,9752435993 ,9993288890

24/07/2020
विशेष शांतिधारा??
प्रभु की शांति धारा ??
महकाएगी जीवन सारा?
???????

प्रतिदिन शांतिधारा देखने सुनने से शांति सुख समृद्धि निरूकता की प्राप्ति होती है
जिनगृह वर्षायोग 2020
वर्षायोग स्थल – श्री 1008 पार्श्वनाथ दिगम्बर जैन मंदिर बड़ी बजरिया बीना जिला सागर ( मध्य प्रदेश )
अध्यात्म की पराकाष्ठा आचार्य भगवन 108 श्री विद्यासागर जी महामुनिराज के मंगल आशीर्वाद से उनके परम् प्रभावक शिष्य-
सौम्य मूर्ति 108
मुनि श्री विमल सागर जी महाराज
मुनि श्री अनंत सागर जी महाराज
मुनि श्री धर्म सागर जी महाराज
मुनि श्री अचल सागर जी महाराज
मुनि श्री भाव सागर जी महाराज
आयोजक
सकल दिगंबर जैन समाज एवं श्री १००८ पार्श्वनाथ दिगम्बर जैन चौबीसी जिनालय मंदिर बड़ी बजरिया बीना जिला सागर
प्रेषक
अक्षय जैन (ईलू) बीना
8889961116
अंकित मोदी बीना
7828005005
अनिमेष जैन बीना
9399975776
वैभव मोदी बीना
7748829854
तनिष्क मानू जैन बीना
8461007771

विशेष अवसर

सर्वश्रेष्ठ ब्रह्मचर्य धारक परम पूज्य आचार्य श्री १०८ विद्यासागर जी महाराज के शिष्य परम पूज्य मुनि श्री विमल सागर
जी महाराज ससंघ के सानिध्य/ प्रेरणा/ मार्गदर्शन में जिन नगरों में संयम कीर्ति स्तंभ, मंदिर निर्माण, वेदी प्रतिष्ठा, वेदी शिलान्यास, पंचकल्याणक, गौशाला के निर्माण कार्य आदि विशेष कार्य हुए हैं उनकी वीडियो, फोटो , भेजें चुनिंदा फोटो वीडियो के लिए प्रथम ,द्वितीय , तृतीय एवं सांत्वना पुरस्कार दिए जाएंगे।
नियम शर्तें लागू
१.वीडियो मोबाइल से होरिजेंटल मैं एचडी क्वालिटी में बनाना है
२. चुनिंदा वीडियो ,फोटो जिनवाणी चैनल पर विशेष कार्यक्रम में प्रसारित किए जाएंगे
३. फोटो वीडियो ई-मेल से या गूगल ड्राइव से भेजें जिससे क्वॉलिटी अच्छी आ सके.
४. संयम कीर्ति स्तंभ, मंदिर निर्माण हो चुका है या चल रहा है उसकी फोटो और रंगीन नक्शा भेजें, गौशाला के कार्यों की एवं विशेष कार्यों की वर्तमान की फोटो ,वीडियो भेजना है
नवीन मंदिर की जानकारी अपनी आवाज के साथ वीडियो में संक्षिप्त मैं भेज सकते हैं
५. इन नगरों मैं मुनि संघ की प्रेरणा रही है गोपालगंज सागर, रामपुरा सागर, तेंदूखेड़ा (पाटन), मंडला, लखनादौन, झलौन, पाटन,सिवनी,छपारा,छिंदवाड़ा , पिंडरई, केवलारी ,घंसौर,सागर,रहली, महाराजपुर देवरी, बिलहरा, बांदरी, बरोदिया, चांदपुर ,शहपुरा ( भिटौनी) ,खितौला ,नागपुर, गौरझामर ,खुरई, सिलवानी ,धनौरा , सिंग्रामपुर ,चरगुंवा , पनागर, इटारसी, बांदकपुर, जबेरा, करकबेल, कटंगी ,सीहोरा, गोटेगाँव, बीना, टीक
दमोह, करेली, जबलपुर,आदि
६. भेजने की अंतिम तिथि १९ जुलाई २०२० तक
संपर्क सूत्र
शुभांशु जैन शहपुरा
7828534080
शिवा जैन करेली
7354705860
अक्षय जैन प्रयोगश्री कलेक्शन बीना
8889961116
अंकित मोदी बीना
7828005005
7987279235
ankitmodi922@gmail.com
हर्ष जैन करेली
7354580073

श्रावक संस्कार शिविर 2016 मण्डला (म.प्र)

आनलाईन फार्म के लिऐ
नाम
उम्र
पिता श्री
पता
मोवाइल नं
सम्पर्क सूत्र –
सोमेश जैन +91-9584427997
Email Id- jainsomesh17979@gmail.com

प्रचार सहयोगी-
पारस चैनल जिनवाणी चैनल
वेबसाईट : www.jindharma.com
फेसबुक : jindharma
टवीट्रर : jindharma
वाट्स एप्प: jindharma.com
9425637122
एप्प: jindharma
यू ट्यूब: jindharma
मो : 9300447550
9425163855
9425165058
9425438436
9111520406

आचार्य श्री का दीक्षा दिवस मनाएं
जिनधर्म October 25, 2019 Jainism, Pravachan
20-06-2020

सर्वश्रेष्ठ साधक परम पूज्य आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज का 53 वा मुनि दीक्षा दिवस 25 जून 2020 दिन गुरुवार को पूरे विश्व में मनाया जाएगा आप आचार्य श्री की पूजन ,आरती ,सांस्कृतिक कार्यक्रम, वृक्षारोपण , भजन,गरीबों को औषधि, वस्त्र, भोजन का दान करें और मांगलिक अनुष्ठान संपन्न करें विशेष निवेदन यह संदेश पूरे विश्व के पूरे सभी जैनों को पहुंचाएं|
October 2019 सर्वश्रेष्ठ साधक पूज्य आचार्यश्री 108 विद्यासागर जी महाराज के अज्ञानुवर्ती शिष्य
मुनि श्री विमल सागर जी महाराज,मुनिश्री अनंत सागर जी महाराज,मुनिश्री धर्म सागर जी महाराज,मुनिश्री अचलसागर जी महाराज, मुनि श्री भावसागर जी महाराज के ससंघ सानिध्य में गुरु गुणगान महोत्सव मनाया गया
प्रातः काल अभिषेक , शांतिधारा, पूजन ,आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज जी की महापूजन विशेष द्रव्यों से हुई,चित्र अनावरण, दीप प्रज्वलन, पाद प्रक्षालन, शास्त्र अर्पण,दोपहर में विशाल जलूस पूरे नगर में निकाला गया नगर में मिष्ठान वितरण हुआ मंगलाचरण, मुनि श्री के मंगल प्रवचन, चातुर्मास सेवा सहयोग सम्मान हुआ, शाम को आचार्य श्री विद्यासागर जी पर आधारित प्रश्न मंच मुनि श्री द्वारा हुआ फिर। रात्रि मैं महा आरती और सांस्कृतिक कार्यक्रम हुये। इस अवसर पर धर्म सभा को संबोधित करते हुए मुनि श्री विमल सागर जी कहा कि भावना अपने आप में महत्वपूर्ण हैं। शरद पूर्णिमा पर दुनिया गुणगान करती है जो पुण्य शाली होता है। जन्म के पूर्व में ही मां उसके बारे में भावना भाने लगती है। ऐसे पुत्र का सानिध्य पाकर जन जन कल्याण करता है। तीन संताने तो दिगंबर साधु के रूप में आज धर्म की प्रभावना कर रही है। संयम धारण करने के लिए विशेष पुण्य की आवश्यकता होती है। आज हमारा परम सौभाग्य है की ऐसे बालक का जन्म हुआ था जिसकी यश कीर्ति पूरी दुनिया में फैल रही है। लोग कहते हैं कि आचार्य श्री के चरण छूने के बाद लगता है कि पूरी संपदा दान कर दें। उनका एक-एक शब्द महत्वपूर्ण होता है। गुरुदेव के चरणों में प्रतिदिन शरद पूर्णिमा होती है। गुरुदेव का प्रभाव 24 घंटे दिखता है। आचार्य श्री अद्वितीय चांद है जिसमें कोई दाग नहीं है।मेरी एक संतान तो मोक्ष मार्ग पर बढ़े। माँ ऐसे दाता को उत्पन्न करें जिसकी चर्चा पूरी दुनिया में फैल जाए। आप अपनी संतान को भगवान भी बना सकते हैं और शैतान भी यह आपके हाथ में है। धर्म का प्रवाह कैसे बढ़ेगा। आगे आपकी संतान देश, धर्म, राष्ट्र की सेवा कैसे करेगी। अंत में कोई पानी देने वाले नहीं रहता है। इसलिए हम हम संतान को अच्छे संस्कार दें। मुनि श्री अनंत सागर जी कहा कि दुनिया में अनेकों लोग हैं जो जन्म लेते हैं लेकिन आज ऐसे बालक का जन्म हुआ था जो कि आगे जन्म मरण का चक्र समाप्त करेगा।अनेक व्यसन में लगे रहने वाले भी गुरुदेव के चरणों में समर्पित हो गए। शरद पूर्णिमा के चांद की आभा अलग ही होती है। गुरुदेव अलग ही हैं। ऐसे चारित्र के साधक महाकवि आचार्य श्री ज्ञानसागर जी थे। एक प्रसिद्ध योगाचार्य ने कहा था कि आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज निर्विवाद संत हैं। गुरुदेव की चर्या अनूठी चर्या है। गृहस्थ तो गुरुदेव को चाहते ही हैं उनके शिष्य भी उनको बहुत चाहते हैं। आचार्य श्री अनुशासन में चर्या में कड़क है। गुरुदेव के बारे में विषय बहुत है लेकिन समय कम है। बड़े-बड़े विद्वान भी आचार्य श्री की चर्या देखने के लिए लालायित रहते हैं। आचार्य श्री के पास बिना बुलाए भीड़ इकटठी हो जाती है। निर्दोष चर्या से सब कुछ अच्छा रहता होता है।
मुनि श्री अचल सागर जी ने कहा कि समय की कीमत समझो, मुनि श्री भाव सागर जी ने कहा कि आचार्य श्री विद्यासागर जी की चर्या अनूठी है। उनके ऊपर 500 से अधिक पूजा लिखी गई हैं जो वर्ल्ड रिकॉर्ड है। इस बार दीपावली पर सिर्फ भवन आदि की सफाई नहीं करना है हृदय और मन की भी सफाई करना है।
प्रेषक
आशीष जैन ( टी.वी न्यूज़ रिपोर्टर ) 9425467816
सिद्धांत जैन (एंकर) 9406671066
शिवा जैन 7354705860
प्रशांत जैन 8435925178
हर्ष जैन 9981906011

बीना 04/08/2020

मोक्ष कल्याणक एवं रक्षाबंधन पर्व संक्षेप से मनाया गया
राष्ट्रहित चिंतक,सर्वश्रेष्ठ आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के शिष्य मुनि श्री विमलसागर जी, मुनि श्री अनंत सागर जी, मुनि श्री धर्म सागर जी, मुनि श्री अचल सागर जी, मुनि श्री भाव सागर जी, के सानिध्य में 03 अगस्त 2020 सोमवार को श्री श्रेयांसनाथ भगवान का मोक्ष कल्याणक एवं रक्षाबंधन पर्व संक्षेप से मनाया गया.
प्रातः काल श्री जी का अभिषेक शांतिधारा, पूजन,निर्वाण लाडू अर्पण के साथ रक्षाबंधन विधान संपन्न हुआ और मुनि श्री का उद्बोधन हुआ फिर दोपहर में पूज्य मुनिसंघ का उद्बोधन हुआ।
चुनिंदा लोगों ने मुनि श्री की पिच्छिका मैं रक्षा सूत्र बांधकर संकल्प लिया ।
यह कार्यक्रम
श्री 1008 पार्श्वनाथ दिगंबर जैन चौबीसी जिनालय मंदिर बडी बजरिया बीना जिला सागर मध्य प्रदेश मैं संपन्न हुआ । शासन-प्रशासन के नियम अनुसार यह संक्षेप में हुआ ।

दस लक्षण महापर्व‌ 2020
☘️????????

उत्तम क्षमा धर्म
रविवार 23/08/2020

भाद्रपद शुक्ल 5
उत्तम मार्दव धर्म
सोमवार 24/08/2020

भाद्रपद शुक्ल 6
भगवान श्री सुपार्श्वनाथ जी का गर्भ कल्याणक.
उत्तम आर्जव धर्म
मंगलवार 25/08/2020

भाद्रपद शुक्ल 7
उत्तम शौच धर्म
बुधवार 26/08/2020

भाद्रपद शुक्ल 8
भगवान श्री पुष्पदंतनाथ जी का मोक्ष कल्याणक.
उत्तम सत्य धर्म
गुरुवार 27/08/2020

भाद्रपद शुक्ल 9
उत्तम संयम धर्म
शुक्रवार 28/08/2020

भाद्रपद शुक्ल 10
सुगंध दशमी
उत्तम तप धर्म
शनिवार 29/08/2020

भाद्रपद शुक्ल 11
उत्तम त्याग धर्म
रविवार 30/08/2020

भाद्रपद शुक्ल 12
उत्तम आकिंचन्य धर्म
सोमवार 31/08/2020

भाद्रपद शुक्ल 13
उत्तम ब्रह्मचर्य धर्म
मंगलवार 01/09/2020

भाद्रपद शुक्ल 14
अनंत चतुर्दशी
(साभार:: जैन पंचांग तीर्थंकर वर्धमान इंदौर)
विशेष निवेदन यह संदेश विश्व के सभी दिगंबर जैनों को पहुंचाएं

🦚🦚 अद्भुत पिच्छिका परिवर्तन समारोह🦚🦚
6 दिसम्बर 2020 रविवार

💐 कार्यक्रम स्थल 💐
🎪श्री 1008 नाभिनंदन दिगंबर जैन स्कूल (3 नंबर स्कूल )बीना जिला सागर
(मध्य प्रदेश)
🌲🌸 आशीर्वाद 🌲🌸
🌞☘️🌷बाल ब्रह्मचारी संघनायक आचार्य श्री 108 विद्यासागर जी महाराज 🌞☘️🌷
🌼 सान्निध्य 🌼
मुनि श्री विमल सागर जी,
मुनि श्री अनंत सागर जी,
मुनि धर्मसागर जी,
मुनि श्री अचल सागर जी,
मुनि श्री भाव सागर जी महाराज

🌻 निर्देशन 🌻
🎙️🎙️बाल ब्रह्मचारी मनोज भैया जी (लल्लन भैया जी) जबलपुर
🌹🍁🌸 मांगलिक कार्यक्रम 🌸🍁🌹
दोपहर 12 बजे, पिच्छिका की शोभा यात्रा बड़ीबजरिया से इटावा फिर मुनि संघ के साथ कार्यक्रम स्थल पहुँचेगी, दोपहर 1 बजे मंगलाचरण, चित्र अनावरण, दीप प्रज्वलन, पाद प्रक्षालन, शास्त्र अर्पण, पिच्छिका परिवर्तन, मुनिश्री के प्रवचन।
विशेष आकर्षण
🦚पिच्छिका का आगमन नए तरीके से होगा 🦚
विशेष
इस कार्यक्रम में आप सपरिवार इष्ट मित्रों सहित आमंत्रित हैं। आवास एवं भोजन की समुचित व्यवस्था है।
विशेष निवेदन
शासन प्रशासन के नियमों
पालन करें। मास्क का प्रयोग करें। सोशल डिस्टेंस का पालन करें।😷😷
आयोजक/निवेदक
🎪श्री 1008 नाभिनंदन दिगंबर जैन मंदिर इटावा,श्री पारसनाथ दिगंबर जैन बड़ी बजरिया कमेटी
चातुर्मास कमेटी, मंदिर निर्माण कमेटी
सकल दिगंबर जैन समाज बीना जिला सागर (मध्य प्रदेश)
संपर्क सूत्र
93999 75776
9425170771

आराधना का महा आयोजन?

? श्री 1008 सिद्धचक्र महामण्डल विधान एवं विश्व शांति महायज्ञ?

?30 अक्टूबर से 7 नवंबर 2020 तक? ?कार्यक्रम स्थल- बीना पब्लिक स्कूल छोटी बजरिया बीना जिला सागर (मप्र) ? मंगल आशीर्वाद – प्रातः स्मरणीय परम पूज्य दिगम्बर सरोवर के राजहंस आचार्य श्री १०८ विद्यासागर जी महामुनिराज ? पावन सानिध्य– ? सौम्य मूर्ति मुनि श्री 108 विमलसागर जी महाराज मुनि श्री 108 अनन्तसागर जी महाराज मुनि श्री 108 धर्मसागर जी महाराज मुनि श्री 108 अचलसागर जी महाराज मुनि श्री 108 भावसागर जी महाराज मांगलिक कार्यक्रम 30 अक्टूबर 2020 शुक्रवारघटयात्रा श्री जी की शोभायात्रा दोपहर 2 बजे से31 अक्टूबर 2020 शनिवारशरद पूर्णिमा गुरु गुणगान दिवस प्रातः 8 बजे ध्वजारोहण आचार्य श्री जी की विशेष पूजनमुनिराजों के प्रवचनप्रतिदिन प्रातः काल अभिषेक, शांतिधारा ,पूजन ,विधान ,मुनि श्री के प्रवचनशाम को 7 बजे मंगल आरती व रात्रि 8 बजे भैयाजी के द्वारा शास्त्र प्रवचन ? विधानाचार्य? ? बा.ब्र. संजीव भैयाजी कटंगी विशेष निवेदन शासन प्रशासन के नियमों का पालन सभी करें एवं सोशल डिस्टेंस और मास्क का प्रयोग करें

आयोजक सकल दिगंबर जैन समाज बीना जिला सागर (म प्र)

संपर्क सूत्र 9425381086 ,9752435993 ,9993288890



24/07/2020
विशेष शांतिधारा??
प्रभु की शांति धारा ??
महकाएगी जीवन सारा?☘️

???????

प्रतिदिन शांतिधारा देखने सुनने से शांति सुख समृद्धि निरूकता की प्राप्ति होती है
जिनगृह वर्षायोग 2020
वर्षायोग स्थल – श्री 1008 पार्श्वनाथ दिगम्बर जैन मंदिर बड़ी बजरिया बीना जिला सागर ( मध्य प्रदेश)
अध्यात्म की पराकाष्ठा आचार्य भगवन 108 श्री विद्यासागर जी महामुनिराज के मंगल आशीर्वाद से उनके परम् प्रभावक शिष्य-
सौम्य मूर्ति 108
मुनि श्री विमल सागर जी महाराज
मुनि श्री अनंत सागर जी महाराज
मुनि श्री धर्म सागर जी महाराज
मुनि श्री अचल सागर जी महाराज
मुनि श्री भाव सागर जी महाराज
आयोजक
सकल दिगंबर जैन समाज एवं श्री १००८ पार्श्वनाथ दिगम्बर जैन चौबीसी जिनालय मंदिर बड़ी बजरिया बीना जिला सागर
प्रेषक
अक्षय जैन (ईलू) बीना
8889961116
अंकित मोदी बीना
7828005005
अनिमेष जैन बीना
9399975776
वैभव मोदी बीना
7748829854
तनिष्क मानू जैन बीना
8461007771

?प्रवास 2020?

☘️??????
सर्वश्रेष्ठ ब्रह्मचर्य धारक आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज ससंघ
मुनिश्री सौम्यसागर जी
मुनिश्री दुर्लभसागर जी
मुनिश्री नीरोगसागर जी
मुनिश्री निरामयसागर जी
मुनिश्री शीतलसागर जी
मुनिश्री श्रमणसागर जी
मुनिश्री संधानसागर जी
प्रवास स्थल :-
विजय नगर इंदौर (मध्य प्रदेश)
संपर्क सूत्र : ब्रह्मचारी सुनील भैया जी 9425963722

वर्षायोग स्थल –

श्री 1008 पार्श्वनाथ दिगम्बर जैन चौबीसी जिनालय मंदिर बड़ी बजरिया बीना जिला सागर ( मध्य प्रदेश) पिन कोड 470113
संपर्क सूत्र–
अक्षय जैन (ईलू)
8889961116
अंकित मोदी
7828005005
भानु (भाग्यश्री)
7999904902
अभिनव ( भाग्यश्री)
7509081101
अनिमेष जैन
+919399975776
अंबर जैन
7067991613
तनिष्क मानू जैन
8461007771

?
चातुर्मास
एक Semester है
आगम
हमारा Syllabus है
जिनवाणी
हमारी Study है
साधु-संत
हमारे Teacher है
धर्मसभा
हमारी Class है
श्रावक
हमारे Classmate है
नवतत्व
हमारे Lesson है
सेवा
हमारे Practicals है
आचरण
हमारी Exam है
परमात्मा
हमारे Examiner है,
कर्म
हमारे Percentage है
गति
हमारा Result है
दुनिया
में ज्ञान-विज्ञान की यह सबसे बेहतर University है।