द्रव्यसंग्रह 1
द्रव्यसंग्रह 2
द्रव्यसंग्रह 3

द्रव्यसंग्रह 1
द्रव्यसंग्रह 2
द्रव्यसंग्रह 3

बीना १९/०६/२०२०
विदेश से अच्छा अपना देश है- मुनि श्री
सर्वश्रेष्ठ साधक आचार्य  श्री विद्यासागर जी महाराज के शिष्य  
मुनि श्री विमल सागर जी,
मुनि श्री अनंत सागर जी, 
मुनि श्री धर्म सागर जी,
मुनि श्री अचल सागर जी, 
मुनि श्री भाव सागर जी महाराज
 श्री नाभि नंदन दिगंबर जैन मंदिर इटावा बीना जिला सागर (मध्य प्रदेश) में विराजमान है ।
चर्चा करते हुए मुनि श्री अचल सागर जी ने बताया कि , आज कोरोना वायरस से पूरी दुनिया प्राभावित् है l जिस व्यक्ति को जीने की कला नहीं आयी उसका जन्म और मरण दोनों व्यर्थ हैl धर्म के माध्यम से ही जीने की कला आती है l पहले से ही श्रद्धा, आस्था कम थी अब कोरोना के कारण धर्म से दूर हो गए है l रोग आते है तो शिक्षा देकर जाते है कि हम अपने जीवन को परिवर्तित करे l पुण्य बढ़ेगा तो रोग दूर हो जायेंगे l २४ घंटे कोरोना के समाचार सुनकर इससे सावधान होकर पुण्य के कार्य करे l धर्म ही सही वीमा है; जो जीवन के साथ भी है और जीवन के वाद भी है l

मुनि श्री विमल सागर जी ने धर्म चर्चा मै वताया की काय की चिकित्सा के लिए आयुर्वेद की रचना की है l और मन की चिकित्सा के लिए अध्यात्म ग्रंथों की रचना की है l बहुत सारे लोग विदेश गए थे धन कमाने के लिए लेकिन कोरोना के कारण परेशानी आ गई विदेश से अच्छा अपना देश है l जिसके जीवन में धर्म वृद्धि होती जाएगी सभी वृद्धि होती जाएँगी l

प्रेषक

रितेश मिडला ९९८१०४८५३९
विकास सिंघई ९२०२४०४८२९

विवरण (1) अपडेट: 12/05/2020


मुनि श्री 108 विमल सागर जी महाराज ससंघ के सान्निध्य / प्रेरणा /मार्गदर्शन से हुए
पंचकल्याणक महोत्सव सन् 2009 से 2020 तक
(1) 6 से 12 फरवरी 2010 , बेलखेड़ा जिला जबलपुर (मध्य प्रदेश)
सान्निध्य
मुनि श्री 108 विमल सागर जी, मुनि श्री 108 सुव्रत सागर जी, मुनि श्री 108 आगम सागर जी , मुनि श्री 108 विशद सागर जी, मुनि श्री 108 अतुल सागर जी
(2) 10 से 16 दिसंबर 2010 , इटारसी (मध्य प्रदेश)
सान्निध्य
मुनि श्री 108 अजित सागर जी ससंघ, मुनि श्री108 विमल सागर जी, मुनि श्री 108 अनंत सागर जी मुनि श्री 108 विशद सागर जी, ऐलक श्री 105 विवेकानंद सागर जी
(3) 29 नवंबर से 5 दिसंबर, 2011 जबेरा जिला दमोह (मध्य प्रदेश)
सान्निध्य
मुनि श्री 108 विमल सागर जी, मुनि श्री 108 अनंत सागर जी , मुनि श्री 108 विशद सागर जी
आर्यिका 105 तपोमति माताजी ससंघ,
आर्यिका 105 उपशांतमति माताजी ससंघ
(4) 03 से 08 फरवरी 2012, बांदकपुर जिला दमोह(मध्य प्रदेश)
सान्निध्य
मुनि श्री 108विमल सागर जी, मुनि श्री 108 अनंत सागर जी , मुनि श्री 108 विशद सागर जी,
आर्यिका 105 उपशांतमति माताजी ससंघ,
आर्यिका 105अपूर्वमति माताजी ससंघ
(5) 16 से 23 जनवरी 2014 , देवरी कलां जिला सागर (मध्य प्रदेश)
सान्निध्य
मुनि श्री 108 विमल सागर जी, मुनि श्री 108 अनंत सागर जी मुनि श्री 108 धर्म सागर जी, मुनि श्री 108 अचल सागर जी, मुनि श्री 108 भाव सागर जी,
(6) 31 जनवरी से 6 फरवरी 2014 ,झलौन जिला दमोह( मध्य प्रदेश)
सान्निध्य
मुनि श्री108 पवित्र सागर जी, मुनि श्री 108प्रयोग सागर जी (ससंघ) ,
मुनि श्री108 विमल सागर जी, मुनि श्री 108अनंतसागर जी , मुनि श्री 108 धर्मसागर जी, मुनि श्री 108 अचल सागर जी, एवं मुनि श्री 108 भावसागर जी,
(7) 16 से 21 फरवरी 2014, बिलहरा जिला सागर (मध्य प्रदेश) सान्निध्य
मुनिश्री 108विमल सागर जी, मुनि श्री 108 अनंत सागर जी, मुनि श्री 108 धर्म सागर जी मुनि श्री 108 अचल सागर जी एवं मुनि श्री 108भाव सागर जी
(8) 15 से 21 फरवरी 2015, घंसौर जिला सिवनी (मध्य प्रदेश) सान्निध्य मुनि श्री 108अजित सागर जी ससंघ, मुनि श्री108 विमल सागर जी, श्री 108 अनंत सागर जी, मुनि श्री 108 धर्म सागर जी मुनि श्री 108 अचल सागर जी, मुनि श्री 108अतुल सागर जी एवं मुनि श्री 108 भाव सागर जी,
आर्यिका 105 आदर्श मति माताजी ससंघ, आर्यिका105 अपूर्व मति माताजी ससंघ
ऐलक श्री 105विवेकानंद सागर जी
(9) 6 से 12 मार्च 2015, गौरझामर जिला सागर (मध्य प्रदेश)
परम पूज्य आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज ससंघ ( 38 मुनि)
(10) 8 से 14 दिसंबर 2018, भाग्योदय तीर्थ सागर (मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री 108 योग सागर जी ससंघ, मुनि श्री 108 पवित्र सागर जी ससंघ मुनि श्री 108 निर्णय सागर जी ससंघ , मुनि श्री 108 अभय सागर जी ससंघ ,मुनि श्री 108 प्रयोग सागर जी,मुनि श्री 108 प्रभात सागर जी,मुनि श्री 108 संभव सागर जी, मुनि श्री 108पद्म सागर जी, मुनि श्री 108पूज्य सागर जी, मुनि श्री 108विमल सागर जी, मुनि श्री 108अनंत सागर जी, मुनि श्री 108धर्म सागर जी, मुनि श्री 108शैल सागर जी, मुनि श्री 108अचल सागर जी, मुनि श्री 108अतुल सागर जी, मुनि श्री 108भाव सागर जी, मुनि श्री 108निरीह सागर जी, मुनि श्री 108निस्सीम सागर जी एवं मुनि श्री 108शाश्वत सागर जी
आर्यिका 105ऋजुमति माताजी ससंघ,
आर्यिका105 गुणमति माताजी ससंघ,
आर्यिका 105अनंतमति माताजी ससंघ, आर्यिका 105अकंपमति माताजी ससंघ आर्यिका105 उपशांतमति माताजी ससंघ
(11) 20 से 26 जनवरी 2019, बांदरी जिला सागर (मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री108 विमल सागर जी ,मुनि श्री108 अनंत सागर जी ,मुनि श्री 108धर्म सागर जी, मुनि श्री 108अचल सागर जी एवं मुनि श्री 108 भाव सागर जी,
आर्यिका 105अनंत मति माताजी ससंघ
(12) 30 जनवरी से 04 फरवरी 2019 ,बरौदिया कलां जिला सागर (मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री108 विमल सागर जी ,मुनि श्री108 अनंत सागर जी ,मुनि श्री 108धर्म सागर जी, मुनि श्री 108 अचल सागर जी एवं मुनि श्री 108 भाव सागर जी
(13) 12 से 18 मार्च 2019, खितौला जिला जबलपुर (मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री 108विमल सागर जी,मुनि श्री 108 अनंत सागर जी,मुनि श्री 108 धर्म सागर जी, अचल सागर जी एवं मुनि श्री 108भाव सागर जी
(14) 4 से 10 नवंबर 2019, करेली जिला नरसिंहपुर (मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री 108विमल सागर जी,मुनि श्री 108अनंत सागर जी , मुनि श्री 108धर्म सागर जी, मुनि श्री 108अचल सागर जी एवं मुनि श्री 108भाव सागर जी
(15) 13 से 19 नवंबर 2019, करकबेल जिला नरसिंहपुर (मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री 108विमल सागर जी, मुनि श्री 108अनंत सागर जी, मुनि श्री 108धर्म सागर जी, मुनि श्री 108अचल सागर जी एवं मुनि श्री 108भाव सागर जी
आर्यिका 105 श्री मृदुमति माताजी ससंघ,
आर्यिका श्री 105निर्णयमति माताजी ससंघ,
(16) 14 फरवरी से 20 फरवरी 2020, देवरी कलां जिला सागर (मध्य प्रदेश)सान्निध्य मुनि श्री108 प्रशांत सागर जी ससंघ, मुनि श्री108 निर्वेग सागर जी,
मुनि श्री108 विमल सागर जी ,मुनि श्री 108अनंत सागर जी ,मुनि श्री 108धर्म सागर जी, मुनि श्री 108अचल सागर जी, मुनि श्री 108भाव सागर जी एवं क्षुल्लक 105 देवानंद सागर जी।
लघु पंचकल्याणक
(1) …………..2013, गंज मंदिर देवरी कलां जिला सागर (मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री108 विमल सागर जी,मुनि श्री 108अनंत सागर जी ,मुनि श्री 108अचल सागर जी
(2) ……….2014 , श्री दिगंबर जैन शांतिनाथ अतिशय क्षेत्र पनागर जिला जबलपुर (मध्य प्रदेश)सान्निध्य मुनि श्री108 विमल सागर जी, मुनि श्री 108अनंत सागर जी, मुनि श्री 108धर्म सागर जी ,मुनि श्री 108अचल सागर जी, मुनि श्री 108 अतुल सागर जी एवं मुनि श्री 108भाव सागर जी मुनि श्री 108 विशद सागर जी, ऐलक श्री 105 विवेकानंद सागर जी

विवरण (2) 12/05/2020


मुनि श्री 108 विमल सागर जी महाराज ससंघ के सान्निध्य / प्रेरणा /मार्गदर्शन में हुए
मंदिर शिलान्यास सन् 2009 से 2020 तक
(1) ………. 2010, समवसरण भूमि पूजन, सिलवानी जिला रायसेन (मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री108 विमल सागर जी, मुनि श्री108अनंत सागर जी , मुनि श्री108विशद सागर जी
(2)………….2010, श्री दिगंबर जैन नसिया मंदिर, भूमि पूजन, सिलवानी जिला रायसेन (मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री108 विमल सागर जी, मुनि श्री108अनंत सागर जी , मुनि श्री108विशद सागर जी,
(3)……… मार्च 2011, पाषाण मंदिर भूमि पूजन,दिगंबर जैन मंदिर,गोपालगंज सागर (मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री108 विमल सागर जी, मुनि श्री108अनंत सागर जी ,मुनि श्री108 विशद सागर जी एवं
आर्यिका 105अनंतमति माताजी ससंघ
(4)………….2014, मंदिर भूमि पूजन ,श्री शांतिनाथ दिगंबर जैन मंदिर ,विद्या विहार कॉलोनी, देवरी जिला सागर (मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री 108विमल सागर जी,मुनि श्री108 अनंत सागर जी, मुनि श्री108धर्म सागर जी, मुनि श्री108अचल सागर जी एवं मुनि श्री108भाव सागर जी
(5) 21 जनवरी 2015 ,मंदिर भूमि पूजन,श्री पार्श्वनाथ दिगंबर जैन मंदिर खितौला (सिहोरा ) जिला जबलपुर(मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री108 विमल सागर जी, मुनि श्री108अनंत सागर जी, मुनि श्री108धर्म सागर जी ,मुनि श्री108अचल सागर जी एवं मुनि श्री108 भाव सागर जी
(6)………….2015 , मार्बल मंदिर भूमि पूजन ,श्री पार्श्वनाथ दिगंबर जैन नवीन मंदिर तेंदूखेड़ा जिला दमोह (मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री 108विमल सागर जी, मुनि श्री108अनंत सागर जी, मुनि श्री108धर्म सागर जी ,मुनि श्री108अचल सागर जी,मुनि श्री108 अतुल सागर जी एवं मुनि श्री108भाव सागर जी
(7)………….2016 , मंदिर भूमि पूजन ,श्री चंद्रप्रभु दिगंबर जैन मंदिर, पाटन जिला जबलपुर (मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री 108विमल सागर जी, मुनि श्री108अनंत सागर जी, मुनि श्री108धर्म सागर जी ,मुनि श्री108अचल सागर जी, मुनि श्री 108अतुल सागर जी एवं मुनि श्री108 भाव सागर जी
(8)………….2016,मंदिर भूमि पूजन ,श्री चंद्रप्रभु दिगंबर जैन पंचायती मंदिर, शहपुरा भिटोनी जिला जबलपुर (मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री108 विमल सागर जी, मुनि श्री108अनंत सागर जी,मुनि श्री108 धर्म सागर जी ,मुनि श्री108अचल सागर जी, मुनि श्री108 अतुल सागर जी एवं मुनि श्री108भाव सागर जी
(9)………….2017 ,मंदिर भूमि पूजन, श्री दिगंबर जैन पार्श्वनाथ मंदिर ,पिंडरई जिला मंडला (मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री 108विमल सागर जी, मुनि श्री108अनंत सागर जी,मुनि श्री108 मुनि श्री108धर्म सागर जी ,मुनि श्री108अचल सागर जी, मुनि श्री 108अतुल सागर जी एवं मुनि श्री108भाव सागर जी
(10)………….2018, मंदिर भूमि पूजन, श्री पार्श्वनाथ दिगंबर जैन बड़ा मंदिर ,छिंदवाड़ा (मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री 108विमल सागर जी, मुनि श्री108अनंत सागर जी, मुनि श्री108धर्म सागर जी ,मुनि श्री108अचल सागर जी, मुनि श्री108अतुल सागर जी एवं मुनि श्री108भाव सागर जी
(11)………….2018 ,मार्बल मंदिर भूमि पूजन ,श्री दिगंबर जैन चंद्र प्रभु जिनालय गौरझामर, जिला सागर (मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री108विमल सागर जी, मुनि श्री108अनंत सागर जी, मुनि श्री108धर्म सागर जी ,मुनि श्री108अचल सागर जी, मुनि श्री108अतुल सागर जी एवं मुनि श्री108भाव सागर जी
(12)………….2018, पाषाण मंदिर भूमि पूजन, श्री दिगंबर जैन जिनालय एम पी नगर गौरझामर, जिला सागर (मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री108 विमल सागर जी, मुनि श्री108अनंत सागर जी, मुनि श्री108धर्म सागर जी ,मुनि श्री108अचल सागर जी, मुनि श्री108 अतुल सागर जी एवं मुनि श्री108 भाव सागर जी
(13)………….2019, जैसलमेर पाषाण मंदिर, भूमिका करेली जिला नरसिंहपुर (मध्य प्रदेश)
शिलान्यास में सान्निध्य नही रहा।
प्रेरणा/ मार्गदर्शन
मुनि श्री 108 विमल सागर जी, मुनि श्री108अनंत सागर जी,मुनि श्री108 धर्म सागर जी ,मुनि श्री108अचल सागर जी एवं मुनि श्री108 भाव सागर जी

विवरण (3). 12/05/2020

मुनि श्री 108 विमल सागर जी महाराज ससंघ के सान्निध्य में आए देश प्रदेश के शासन, प्रशासन के महानुभाव (सन् 2009 से 2020 तक)
(1) मध्यप्रदेश शासन के वित्त मंत्री श्री जयंत मलैया चातुर्मास 2015, तेंदूखेड़ा जिला दमोह (मध्य प्रदेश)।
(2) श्री कमलनाथ जी सांसद छिंदवाड़ा (मध्य प्रदेश) महावीर जयंती 2017 के अवसर पर छिंदवाड़ा।
(3) 5 जुलाई 2019 को करेली जिला नरसिंहपुर (मध्य प्रदेश) में हर्षित जैन एमआईटी पुणे ने दर्शन किए | इन्होंने 26 देशों की यात्रा की है एवं 154 देशों के रिसर्च की स्पीच हुई है इन्होंने मार्गदर्शन प्राप्त किया|
(4) “विश्व अहिंसा दिवस ” कार्यक्रम में 2 अक्टूबर 2019, सुभाष मैदान, करेली जिला नरसिंहपुर (मध्य प्रदेश) में राज्यसभा सांसद माननीय श्री कैलाश सोनी जी नरसिंहपुर (मध्य प्रदेश) , विधायक श्री जालम सिंह पटेल तेंदूखेड़ा (नरसिंहपुर) मध्य प्रदेश, विधायक संजय शर्मा आए|
(5) माननीय श्री उदय राव प्रताप सिंह लोकसभा सांसद होशंगाबाद , 1 नवंबर 2019 पंचकल्याणक महोत्सव करेली जिला नरसिंहपुर (मध्य प्रदेश)।
(6) राज्यसभा सांसद एवं पूर्व मुख्यमंत्री (मध्य प्रदेश) माननीय श्री दिग्विजय सिंह एवं मध्य प्रदेश शासन के विधानसभा अध्यक्ष माननीय श्री एनपी प्रजापति नवंबर 2019 पंचकल्याणक महोत्सव ,करकबेल जिला नरसिंहपुर (मध्य प्रदेश) में आए|
(7) मध्यप्रदेश शासन के कैबिनेट मंत्री माननीय श्री हर्ष यादव जी ने 31 दिसंबर 2019 को श्री शांति धाम दिगंबर जैन अतिशय क्षेत्र बीना बारह तहसील देवरी जिला सागर (मध्यप्रदेश) के वार्षिक मेला का ध्वजारोहण किया ।

विवरण (4) 04/06/2020

मुनि श्री 108 विमल सागर जी महाराज ससंघ के सान्निध्य / प्रेरणा / मार्गदर्शन मे बने संयम कीर्ति स्तंभ ।
(1) 17/01/2017
संयम कीर्ति स्तंभ शिलान्यास ,
पिंडरई जिला मंडला(मध्य प्रदेश)
सान्निध्य
मुनि श्री108 विमल सागर जी, मुनि श्री108अनंत सागर जी, मुनि श्री108धर्म सागर जी,
मुनि श्री108अचल सागर जी,
मुनि श्री108अतुल सागर जी,
मुनि श्री108भाव सागर जी,
(2) 2017
संयम कीर्ति स्तंभ लोकार्पण ,
पिंडरई जिला मंडला(मध्य प्रदेश)
सान्निध्य
मुनि श्री 108विमल सागर जी, मुनि श्री108अनंत सागर जी,
मुनि श्री108 धर्म सागर जी,
मुनि श्री108 अचल सागर जी,
मुनि श्री108 अतुल सागर जी,
मुनि श्री108 भाव सागर जी,
(3) 2017
संयम कीर्ति स्तंभ शिलान्यास
श्री दिगंबर जैन मंदिर ,केवलारी जिला सिवनी (मध्य प्रदेश)
सान्निध्य
मुनि श्री108 विमल सागर जी, मुनि श्री108अनंत सागर जी, मुनि श्री108धर्म सागर जी मुनि श्री108अचल सागर जी मुनि श्री108अतुल सागर जी मुनि श्री108भाव सागर जी मुनि
आर्यिका 105अकंपमति माताजी ससंघ
(4) 2017
संयम कीर्ति स्तंभ लोकार्पण ,
श्री दिगंबर जैन मंदिर केवलारी, जिला सिवनी (मध्य प्रदेश)
सान्निध्य
मुनि श्री108 विमल सागर जी, मुनि श्री108अनंत सागर जी,
मुनि श्री108 धर्म सागर जी,
मुनि श्री108अचल सागर जी,
मुनि श्री108अतुल सागर जी,
मुनि श्री108भाव सागर जी,
(5) 9 अप्रैल 2017 महावीर जयंती
संयम कीर्ति स्तंभ शिलान्यास, विधायक सिवनी श्री मुनमुन राय के द्वारा किया गया
श्री दिगंबर जैन बड़ा मंदिर, सिवनी (मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री108 विमल सागर जी,
मुनि श्री108 अनंत सागर जी, मुनि श्री108धर्म सागर जी
मुनि श्री108अचल सागर जी मुनि श्री108अतुल सागर जी
मुनि श्री108 भाव सागर जी
(6) 15 जून 2017
संयम कीर्ति स्तंभ लोकार्पण, बालाघाट सिवनी सांसद श्री बोध सिंह भगत एवं विधायक सिवनी श्री मुनमुन राय के द्वारा किया गया।
श्री दिगंबर जैन बड़ा मंदिर सिवनी (मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री108 विमल सागर जी,
मुनि श्री108अनंत सागर जी,
मुनि श्री108धर्म सागर जी
मुनि श्री108अचल सागर जी
मुनि श्री108अतुल सागर जी
मुनि श्री108भाव सागर जी
(7) 2017
संयम कीर्ति स्तंभ शिलान्यास,
चौंरई जिला छिंदवाड़ा (मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री108 विमल सागर जी, मुनि श्री108अनंत सागर जी, मुनि श्री108धर्म सागर जी
मुनि श्री108 अचल सागर जी मुनि श्री108अतुल सागर जी मुनि श्री108भाव सागर जी
(8) 22 जनवरी 2018
संयम कीर्ति स्तंभ शिलान्यास
छिंदवाड़ा (मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री 108विमल सागर जी,
मुनि श्री108अनंत सागर जी,
मुनि श्री108धर्म सागर जी
मुनि श्री108अचल सागर जी
मुनि श्री108 अतुल सागर जी
मुनि श्री108भाव सागर जी
(9) 2018
संयम कीर्ति स्तंभ शिलान्यास
श्री पार्श्वनाथ दिगंबर जैन पंचायती मंदिर, गोटेगांव जिला नरसिंहपुर (मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री 108विमल सागर जी,
मुनि श्री108अनंत सागर जी,
मुनि श्री108धर्म सागर जी
मुनि श्री108अचल सागर जी
मुनि श्री108अतुल सागर जी
मुनि श्री108भाव सागर जी
(10) 4 अक्टूबर 2018
संयम कीर्ति स्तंभ शिलान्यास राज्यसभा सांसद श्री कैलाश सोनी जी के द्वारा किया गया।
करेली जिला नरसिंहपुर (मध्य प्रदेश)
प्रेरणा
मुनि श्री 108विमल सागर जी,
मुनि श्री108अनंत सागर जी,
मुनि श्री108धर्म सागर जी
मुनि श्री108अचल सागर जी
मुनि श्री108 अतुल सागर जी
मुनि श्री108भाव सागर जी
ऐलक श्री 105दयासागर जी,
ऐलक श्री 105विवेकानंदसागर जी
(11) 24 अक्टूबर 2018, बुधवार, शरद पूर्णिमा
संयम कीर्ति स्तंभ लोकार्पण
करेली जिला नरसिंहपुर (मध्य प्रदेश)
प्रेरणा
मुनि श्री 108अजित सागर जी(संघ सहित)
मुनि श्री108 विमल सागर जी,
मुनि श्री108अनंत सागर जी,
मुनि श्री108धर्म सागर जी
मुनि श्री108अचल सागर जी
मुनि श्री108अतुल सागर जी
मुनि श्री108भाव सागर जी
ऐलक श्री105 दयासागर जी, ऐलक श्री105 विवेकानंदसागर जी
(12)18 अप्रैल 2018 वैशाख शुक्ल तृतीया (अक्षय तृतीया)
संयम कीर्ति स्तंभ शिलान्यास
गौरझामर जिला सागर (मध्य प्रदेश)
मार्गदर्शन सान्निध्य
मुनि श्री108 विमल सागर जी, मुनि श्री108अनंत सागर जी, मुनि श्री108धर्म सागर जी
मुनि श्री108 अचल सागर जी मुनि श्री108अतुल सागर जी
मुनि श्री108 भाव सागर जी
(13) 16 अगस्त 2018, गुरुवार, श्रावण शुक्ल छठ
संयम कीर्ति स्तंभ लोकार्पण,
गौरझामर जिला सागर (मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री 108विमल सागर जी,
मुनि श्री108अनंत सागर जी,
मुनि श्री108 धर्म सागर जी
मुनि श्री108अचल सागर जी
मुनि श्री108अतुल सागर जी
मुनि श्री108 भाव सागर जी
(14) 25 सितंबर 2018
संयम अहिंसा द्वार शिलान्यास, भूमि पूजन,
गौरझामर जिला सागर (मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री108 विमल सागर जी, मुनि श्री108अनंत सागर जी,
मुनि श्री108धर्म सागर जी
मुनि श्री108अचल सागर जी
मुनि श्री108अतुल सागर जी
मुनि श्री108भाव सागर जी
(15) 18 दिसंबर 2019
संयम कीर्ति स्तंभ लोकार्पण गौशाला,
तेंदूखेड़ा जिला दमोह (मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री108 विमल सागर जी,
मुनि श्री108अनंत सागर जी,
मुनि श्री108धर्म सागर जी
मुनि श्री108 अचल सागर जी,
मुनि श्री108भाव सागर जी
(16) 20 दिसंबर 2019
संयम कीर्ति स्तंभ लोकार्पण
श्री शांतिधाम दिगंबर जैन मंदिर, तारादेही जिला दमोह (मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री108 विमल सागर जी, मुनि श्री108अनंत सागर जी,
मुनि श्री108धर्म सागर जी
मुनि श्री108अचल सागर जी,
मुनि श्री108भाव सागर जी
इसके अलावा मुनि संघ की प्रेरणा, मार्गदर्शन में लखनादौन जिला सिवनी (मध्य प्रदेश) धनौरा जिला सिवनी (मध्य प्रदेश),घंसौर जिला सिवनी (मध्य प्रदेश), मंडला (मध्य प्रदेश), सिलवानी जिला रायसेन (मध्य प्रदेश) आदि स्थानों पर भी संयम कीर्ति स्तंभ बनाए गए हैं।

विवरण (5) 04/06/2020

मुनि श्री 108 विमल सागर जी महाराज ससंघ के सान्निध्य / प्रेरणा /मार्गदर्शन से हुए
वेदी शिलान्यास सन् 2009 से 2020 तक।
(1)………. 2011 वेदी शिलान्यास श्री दिगंबर जैन मंदिर, रहली जिला सागर (मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री108 विमल सागर जी,
मुनि श्री108अनंत सागर जी,
मुनि श्री108विशद सागर जी
(2)………. 2014 चौबीसी वेदी शिलान्यास, श्री पार्श्वनाथ दिगंबर जैन बड़ा मंदिर, गौरझामर जिला सागर (मध्य प्रदेश)
सान्निध्य
मुनि श्री 108सुख सागर जी ससंघ, मुनि श्री108 विमल सागर जी, मुनि श्री108अनंत सागर जी, मुनि श्री108धर्म सागर जी ,मुनि श्री108अचल सागर जी, मुनि श्री108मुनि श्री अतुल सागर जी
मुनि श्री108 भाव सागर जी क्षुल्लक श्री105 संयम सागर जी
(3) 9 मई 2016 वेदी शिलान्यास, श्री पार्श्वनाथ दिगंबर जैन पंचायती बड़ा मंदिर ,शहपुरा भिटोनी जिला जबलपुर (मध्य प्रदेश)
सान्निध्य
मुनि श्री 108विमल सागर जी, मुनि श्री108अनंत सागर जी,
मुनि श्री108 धर्म सागर जी ,
मुनि श्री108अचल सागर जी,
मुनि श्री 108अतुल सागर जी एवं
मुनि श्री108 भाव सागर जी
(4) 2016 वेदी शिलान्यास, श्री दिगंबर जैन मंदिर धनौरा, जिला सिवनी (मध्य प्रदेश)
सान्निध्य
मुनि श्री108 विमल सागर जी,
मुनि श्री108अनंत सागर जी,
मुनि श्री108धर्म सागर जी ,
मुनि श्री108अचल सागर जी,
मुनि श्री108 अतुल सागर जी एवं मुनि श्री108भाव सागर जी
(5) 2016, दो वेदी शिलान्यास श्री पार्श्वनाथ दिगंबर जैन मंदिर, मंडला (मध्य प्रदेश)
सान्निध्य
मुनि श्री 108विमल सागर जी
मुनि श्री108अनंत सागर जी,
मुनि श्री108धर्म सागर जी ,
मुनि श्री108अचल सागर जी,
मुनि श्री 108अतुल सागर जी एवं मुनि श्री108भाव सागर जी
(6)18 जनवरी 2017 वेदी शिलान्यास ,श्री दिगंबर जैन बडा़ मंदिर पिंडरई , जिला मंडला (मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री 108विमल सागर जी,
मुनि श्री108 अनंत सागर जी,
मुनि श्री108धर्म सागर जी ,
मुनि श्री108अचल सागर जी,
मुनि श्री 108अतुल सागर जी एवं मुनि श्री108भाव सागर जी
(7) ………..2018 मानस्तंभ शिलान्यास ,मेघा सिवनी गौशाला छिंदवाड़ा( मध्य प्रदेश)
सान्निध्य
मुनि श्री 108विमल सागर जी,
मुनि श्री108अनंत सागर जी,
मुनि श्री108धर्म सागर जी ,
मुनि श्री108अचल सागर जी,
मुनि श्री 108अतुल सागर जी एवं मुनि श्री108भाव सागर जी।
(8) 28 जून 2018 वेदी शिलान्यास, श्री शांतिनाथ दिगंबर जैन पंचायती मंदिर ,करकबेल तहसील गोटेगांव जिला नरसिंहपुर( मध्य प्रदेश) सान्निध्य
मुनि श्री 108विमल सागर जी,
मुनि श्री108अनंत सागर जी,
मुनि श्री108धर्म सागर जी ,
मुनि श्री108अचल सागर जी,
मुनि श्री108 अतुल सागर जी एवं मुनि श्री108भाव सागर जी।
(9) 6 अगस्त 2018 वेदी शिलान्यास, श्री पार्श्वनाथ दिगंबर जैन बड़ा मंदिर ,गौरझामर जिला सागर (मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री108 विमल सागर जी, मुनि श्री108अनंत सागर जी, मुनि श्री108धर्म सागर जी ,
मुनि श्री108अचल सागर जी, मुनि श्री108 अतुल सागर जी एवं मुनि श्री108भाव सागर जी
(10) 11/07/2018
वेदी शिलान्यास,
श्री शांतिनाथ दिगंबर जैन मंदिर, विद्या विहार काॅलोनी ,देवरी जिला सागर (मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री108 विमल सागर जी, मुनि श्री108अनंत सागर जी, मुनि श्री108धर्म सागर जी ,
मुनि श्री108अचल सागर जी, मुनि श्री 108अतुल सागर जी एवं मुनि श्री108भाव सागर जी
(11)……….2018 शिखर एवं वेदी शिलान्यास ,कलश मंदिर श्री दिगंबर जैन , हाता गौरझामर जिला सागर (मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री108 विमल सागर जी, मुनि श्री108अनंत सागर जी,
मुनि श्री108धर्म सागर जी ,
मुनि श्री108अचल सागर जी,
मुनि श्री 108अतुल सागर जी एवं मुनि श्री108भाव सागर जी
(12) 1 दिसंबर 2019 वेदी शिलान्यास एवं संत निवास, श्री दिगंबर जैन मंदिर कमोद तहसील गोटेगांव जिला नरसिंहपुर (मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री108 विमल सागर जी,
मुनि श्री108अनंत सागर जी,
मुनि श्री108धर्म सागर जी ,
मुनि श्री108अचल सागर जी,
मुनि श्री108 भाव सागर जी

विवरण (6) 04/06/2020

मुनि श्री 108 विमल सागर जी महाराज ससंघ के सान्निध्य/ प्रेरणा /मार्गदर्शन में हुए विधान
सन् 2009 से 2020 तक
(1) 2009 विधान श्री दिगंबर जैन मंदिर, गोपालगंज ,सागर(मध्य प्रदेश)
सान्निध्य
मुनि श्री108 विमल सागर जी,
मुनि श्री108 सुब्रत सागर जी,
मुनि श्री 108आगम सागर जी,
मुनि श्री 108विशद सागर जी,
मुनि श्री108 अतुल सागर जी
(2) 2013 श्री 1008 सिद्धचक्र महा मंडल विधान , श्री दिगंबर जैन मंदिर, दीनदयाल नगर , सागर(मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री108 विमल सागर जी,
मुनि श्री108अनंत सागर जी,
मुनि श्री108महासागर जी,
मुनि श्री108अचलसागर जी,
मुनि श्री108विशद सागर जी
एवं
आर्यिका श्री105 प्रभावनामति माताजी ससंघ (4 माताजी)
(3) 2013 सिद्ध चक्र महामंडल विधान, श्री दिगंबर जैन मंदिर देवरी ,जिला सागर(मध्य प्रदेश)
सान्निध्य
मुनि श्री108 विमल सागर जी,
मुनि श्री108 अनंत सागर जी,
मुनि श्री108 धर्म सागर जी
मुनि श्री108 अचल सागर जी
मुनि श्री108 भाव सागर जी
(4) 2018 कल्याण मंदिर विधान ,श्री पारसनाथ दिगंबर जैन अतिशय क्षेत्र, बगासपुर तहसील गोटेगांव जिला नरसिंहपुर(मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री108 विमल सागर जी,
मुनि श्री108 अनंत सागर जी,
मुनि श्री 108धर्म सागर जी
मुनि श्री 108अचल सागर जी
मुनि श्री108 अतुल सागर जी
मुनि श्री108 भाव सागर जी
(5 ) 8 से17 नवम्बर 2018 चौबीस समवसरण विधान श्री पारसनाथ दिगंबर जैन बडा़ मंदिर, गौरझामर जिला सागर(मध्य प्रदेश)
सान्निध्य
मुनि श्री108 विमल सागर जी,
मुनि श्री108 अनंत सागर जी,
मुनि श्री 108धर्म सागर जी
मुनि श्री 108अचल सागर जी
मुनि श्री108 अतुल सागर जी
मुनि श्री108 भाव सागर जी
(6) 2018 सिद्ध चक्र महामंडल विधान, श्री पारसनाथ दिगंबर जैन बडा़ मंदिर ,गौरझामर जिला सागर(मध्य प्रदेश)
सान्निध्य
मुनि श्री108 विमल सागर जी,
मुनि श्री 108अनंत सागर जी,
मुनि श्री108 धर्म सागर जी
मुनि श्री 108अचल सागर जी
मुनि श्री108 अतुल सागर जी
मुनि श्री 108भाव सागर जी
(7) 2018 पंच परमेष्ठी विधान, श्री नेमिनाथ दिगंबर जैन मंदिर हाता, गौरझामर ,जिला सागर(मध्य प्रदेश)सान्निध्य
मुनि श्री 108विमल सागर जी,
मुनि श्री108 अनंत सागर जी,
मुनि श्री108 धर्म सागर जी
मुनि श्री108 अचल सागर जी
मुनि श्री108 अतुल सागर जी
मुनि श्री 108भाव सागर जी
(8) 22 से 30 दिसंबर 2019सिद्ध चक्र महामंडल विधान ,श्री दिगंबर जैन बडा़ मंदिर ,महाराजपुर जिला सागर(मध्य प्रदेश)
सान्निध्य
मुनि श्री108 विमल सागर जी,
मुनि श्री 108अनंत सागर जी,
मुनि श्री108 धर्म सागर जी
मुनि श्री108 अचल सागर जी
मुनि श्री 108भाव सागर जी

विवरण (7) 04/06/2020

मुनि श्री 108 विमल सागर जी महाराज ससंघ के सान्निध्य/ प्रेरणा /मार्गदर्शन मे हुए 1008 कलशों से महामस्तकाभिषेक
सन् 2009 से 2020 तक
(1) चातुर्मास सन 2013
गंज मंदिर, देवरी जिला सागर (मध्य प्रदेश)
(2) 01 जनवरी 2014
मूलनायक श्री शांतिनाथ भगवान की खड्गासन प्रतिमा का अभिषेक हुआ।
श्री1008 शांतिधाम शांतिनाथ दिगंबर जैन अतिशय क्षेत्र, बीना बारह तहसील देवरी जिला सागर(मध्य प्रदेश)
(3) 07 फरवरी 2014
श्री1008 दिगंबर जैन मंदिर, झलोन जिला दमोह (मध्य प्रदेश)
(4) 2014
मूलनायक पार्श्वनाथ भगवान का महामस्तकाभिषेक हुआ , श्री 1008पार्श्वनाथ दिगंबर जैन बडा़ मंदिर, गौरझामर जिला सागर(मध्य प्रदेश)
(5) 08/10/2014 शरद पूर्णिमा वार्षिक मेला
मूलनायक श्री शांतिनाथ भगवान की खड्गासन प्रतिमा का अभिषेक, श्री1008 शांतिनाथ दिगंबर जैन अतिशय क्षेत्र, बड़ा मंदिर पनागर जिला जबलपुर (मध्य प्रदेश)
(6) चातुर्मास 2015
श्री 1008 शांतिनाथ दिगंबर जैन मंदिर ,विद्यानगर तेंदूखेड़ा जिला दमोह (मध्य प्रदेश)
(7) 01 जनवरी 2016
श्री1008 आदिनाथ, भरत ,बाहुबली भगवान की खड्गासन प्रतिमा का 2016 कलशों से अभिषेक हुआ।
श्री दिगंबर जैन अतिशय क्षेत्र , कोनीजी तहसील पाटन जिला जबलपुर(मध्य प्रदेश)
(8) 2016
श्री 1008पार्श्वनाथ दिगंबर जैन पंचायती मंदिर, शहपुरा भिट़ौनी जिला जबलपुर (मध्य प्रदेश)
(9) चातुर्मास 2016
श्री 1008पार्श्वनाथ दिगंबर जैन मंदिर ,मंडला (मध्य प्रदेश)
(10) 1 जनवरी2017
श्री 1008 दिगंबर जैन बीच मंदिर , पिंडरई जिला मंडला (मध्य प्रदेश)
(11) 2017 महावीर जयंती
1008 कलशों से अभिषेक हुआ।
श्री 1008 दिगंबर जैन बड़ा मंदिर ,सिवनी (मध्य प्रदेश)
(12) चातुर्मास 2017
लगभग 1500 वर्ष से अधिक प्राचीन मूलनायक श्री 1008 महावीर भगवान की पाषाण की प्रतिमा का महामस्तकाभिषेक हुआ।
श्री दिगंबर जैन मंदिर, छपारा जिला सिवनी (मध्य प्रदेश)
(13) 1 जनवरी 2018
श्री मूलनायक आदिनाथ भगवान का महामस्तकाभिषेक हुआ, श्री आदिनाथ दिगंबर जैन मंदिर, गोलगंज छिंदवाड़ा( मध्य प्रदेश)
(14) 14 मई 2018
श्री मूलनायक पार्श्वनाथ भगवान का महामस्तकाभिषेक हुआ,
श्री 1008 पारसनाथ पंचायती दिगंबर जैन मंदिर ,गोटेगांव जिला नरसिंहपुर (मध्य प्रदेश)
(15) 4 जुलाई 2018
श्री मूलनायक आदिनाथ भगवान का महामस्तकाभिषेक हुआ, श्री1008 आदिनाथ दिगंबर जैन मंदिर ,बगीचा करेली जिला नरसिंहपुर( मध्य प्रदेश)
(16) चातुर्मास 2018
मूलनायक पार्श्वनाथ भगवान का महामस्तकाभिषेक हुआ और मुनि संघ का प्रथम बार चातुर्मास हुआ , श्री पारसनाथ दिगंबर जैन बडा़ मंदिर गौरझामर जिला सागर(मध्य प्रदेश)
(17) चातुर्मास 2019
श्री1008 दिगंबर जैन बड़ा मंदिर, करेली जिला नरसिंहपुर (मध्य प्रदेश)
(18) 9 सितंबर 2019
1008 प्रतिमाओं का अभिषेक एवं विशेष शांतिधारा हुई।
श्री दिगंबर जैन बड़ा मंदिर ,करेली जिला नरसिंहपुर (मध्य प्रदेश)
(19) 29 नवंबर 2019
मूलनायक की विशाल प्रतिमा का महामस्तकाभिषेक हुआ, श्री1008 दिगंबर जैन पार्श्वनाथ मंदिर, ठेमी तहसील गोटेगांव जिला नरसिंहपुर (मध्य प्रदेश)
(20) 1 जनवरी 2020
श्री 1008 मूलनायक श्री शांतिनाथ भगवान की खड्गासन प्रतिमा का अभिषेक हुआ।
श्री शांतिधाम शांतिनाथ दिगंबर जैन अतिशय क्षेत्र , बीना बारह तहसील देवरी जिला सागर(मध्य प्रदेश)
(21) 23 जनवरी 2020
मूलनायक श्री 1008आदिनाथ भगवान की पद्मासन प्रतिमा का अभिषेक हुआ।
श्री 1008दिगंबर जैन गंज मंदिर, देवरी जिला सागर(मध्य प्रदेश)
(22) 17 मार्च 2020
श्री1008 आदिनाथ जयंती पर 1008 कलशों से लगभग 700 वर्ष से अधिक प्राचीन मूलनायक श्री1008 आदिनाथ भगवान की पाषण की प्रतिमा का महामस्तकाभिषेक हुआ।
श्री1008 आदिनाथ दिगंबर जैन प्राचीन मंदिर, खुरई जिला सागर (मध्य प्रदेश)

विवरण (8) 05/06/2020

मुनि श्री 108 विमल सागर जी महाराज ससंघ के सान्निध्य / प्रेरणा /मार्गदर्शन मे बनी दिव्य शांतिधारा झारी, अभिषेक कलश।
मंडला (मध्य प्रदेश)
छपारा जिला सिवनी (मध्य प्रदेश)
छिंदवाड़ा (मध्य प्रदेश)
गोटेगांव जिला नरसिंहपुर (मध्य प्रदेश)
करेली जिला नरसिंहपुर (मध्य प्रदेश)
देवरी जिला सागर (मध्य प्रदेश) गंज मंदिर, शहर मंदिर, नायक मंदिर- झारी एक बनी और कलश सभी के अलग अलग बने।
गौरझामर जिला सागर (मध्य प्रदेश) महावीर जिनालय कलश, हांता, गुगवारा(झारी, कलश), पंचायती बड़ा मंदिर इन मंदिरों में अलग अलग बनवाये गए।
बांदरी जिला सागर( मध्य प्रदेश)
बरौदिया बेलई जिला सागर (मध्य प्रदेश)
बंडा जिला सागर (मध्य प्रदेश)
खितौला जिला जबलपुर (मध्य प्रदेश)
तारादेही जिला दमोह (मध्य प्रदेश)
महाराजपुर जिला सागर (मध्य प्रदेश)

विवरण (9) 05/06/2020

मुनि श्री 108 विमल सागर जी महाराज ससंघ के सान्निध्य/ प्रेरणा/ मार्गदर्शन में हुए विभिन्न विशेष कार्य (सन् 2009 से 2020 तक)
(1) आचार्य श्री विद्यासागर दयोदय गौशाला, गौरझामर जिला सागर (मध्य प्रदेश )शिलान्यास 2018।
(2) 2017 को आचार्य श्री 108विद्यासागर जी महाराज के 50 वें मुनि दीक्षा दिवस “संयम स्वर्ण महोत्सव” पर आचार्य छत्तीसी विधान सिवनी (मध्य प्रदेश ) में किया गया और 120 ग्राम स्वर्ण का ग्रंथ बनाया गया। रजत, पीतल, ताम्र पत्र ग्रंथ विराजमान किये गए।
(3) 2018 को आचार्य श्री 108विद्यासागर जी महाराज के 51 वें मुनि दीक्षा दिवस पर आचार्य छत्तीसी विधान गौरझामर जिला सागर (मध्य प्रदेश ) में किया गया ।
(4) 7 जुलाई 2019 को आचार्य श्री 108विद्यासागर जी महाराज का 52 वें मुनि दीक्षा दिवस पर आचार्य छत्तीसी विधान ,करेली जिला नरसिंहपुर (मध्य प्रदेश) में किया गया ।
(5) 23 जनवरी 2020 आदिनाथ निर्वाण महोत्सव श्री दिगंबर जैन गंज मंदिर, देवरी जिला सागर (मध्य प्रदेश ) में 125 किलो के लगभग रजत रथ की योजना बनी सभी ने चांदी का दान किया।
(6) 17 मार्च 2020
श्री आदिनाथ जयंती पर लगभग 700 वर्ष से अधिक प्राचीन मूलनायक श्री आदिनाथ भगवान की पाषाण की प्रतिमा को रजत वेदी पर विराजमान करने हेतु योजना बनी और समाज के लोगों ने 100 किलो से ज्यादा चांदी दान करने की स्वीकृति दी, श्री आदिनाथ दिगंबर जैन प्राचीन मंदिर ,खुरई जिला सागर (मध्य प्रदेश)
(7) 2019 संत निवास शिलान्यास,श्री दिगंबर जैन मंदिर खमरिया, तहसील गोटेगांव जिला नरसिंहपुर (मध्य प्रदेश)
(8) 28 मार्च 2018 महावीर जयंती (त्रि दिवसीय कार्यक्रम )के अवसर पर 75 वर्ष के ऊपर के बुजुर्गों को सकल जैन समाज, छिंदवाड़ा मध्य प्रदेश के द्वारा सम्मानित किया गया।
(9) 2 अक्टूबर 2016 को जिला कारागार जेल मंडला (मध्यप्रदेश ) में मुनि श्री 108 विमल सागर जी महाराज एवं मुनि श्री 108 भाव सागर जी महाराज के प्रवचन हुए।
(10) 11 फरवरी 2018 को जिला कारागार (जेल ) छिंदवाड़ा (मध्यप्रदेश ) में मुनि श्री 108 विमल सागर जी महाराज एवं मुनि श्री 108 अचल सागर जी महाराज के प्रवचन हुए।
(11) सन 2014 देवरी जिला सागर (मध्य प्रदेश) सन 2014 झलौन जिला दमोह (मध्य प्रदेश) 2014 राजा बिलहरा जिला सागर (मध्य प्रदेश) 2015 घंसौर जिला सिवनी (मध्य प्रदेश ) 2015 गौरझामर जिला सागर (मध्य प्रदेश) 2019 बरोदिया कलां जिला सागर (मध्य प्रदेश ) में पंचकल्याणक महोत्सव की गजरथ फेरी में चार्टर्ड प्लेन के द्वारा पुष्प वर्षा हुई।
(12) रजत पत्र पर श्रुत स्कंध एवं आचार्य श्री 108विद्यासागर जी महाराज के चित्र शहपुरा भिटोनी जिला जबलपुर (मध्य प्रदेश) दमोह (मध्य प्रदेश) कुंडलपुर सिद्ध क्षेत्र जिला दमोह (मध्य प्रदेश) सिवनी (मध्य प्रदेश ) मंडला (मध्य प्रदेश) छपारा जिला सिवनी (मध्य प्रदेश) आदि स्थानों पर विराजमान किए गए।
(13) विश्व अहिंसा दिवस 2 अक्टूबर पर मांस निर्यात बंद हो, गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने , स्वदेशी वस्तु एवं हथकरघा वस्त्र उपयोग संबंधी पहल , नशा मुक्ति, ट्रेनों , कॉलेज , स्कूलों में शाकाहारी लोगों को शाकाहारी भोजन मिले इस हेतु रैली निकाली गई। पनागर जिला जबलपुर मध्य प्रदेश ,तेंदूखेड़ा जिला दमोह मध्य प्रदेश ,मंडला मध्य प्रदेश, छपारा जिला सिवनी मध्य प्रदेश, गौरझामर जिला सागर मध्य प्रदेश, करेली जिला नरसिंहपुर मध्य प्रदेश में नशा मुक्ति एवं शाकाहार के प्रचार प्रसार हेतु रैली निकाली गईं।
(14) 29/01/2018 को छिंदवाड़ा से 14 किलोमीटर मेघा सिवनी गौशाला तक अहिंसा पद यात्रा। “अहिंसा युवारत्न सम्मान” गौशाला मेघा सिवनी जिला छिंदवाड़ा (मध्यप्रदेश) में प्रदान किया गया।
(15) 30/05/17 श्रुत पंचमी श्री दिगंबर जैन बड़ा मंदिर सिवनी (मध्य प्रदेश) में पाठशाला का पुनः शुभारंभ एवं ग्रंथालय का शुभारंभ हुआ ।
(16) विशाल जाप अनुष्ठान श्री दिगंबर जैन आदिनाथ मंदिर, गोलगंज, छिंदवाड़ा (मध्य प्रदेश) में हुआ।
(17) समाधि मरण
श्री परमानंद लाल जैन बांसा जिला दमोह (मध्य प्रदेश) निवासी जिनकी उम्र 94 वर्ष थी। 28 मई 2019 से संलेखना साधना करके 7 जून 2019 शुक्रवार( ज्येष्ठ शुक्ल पंचमी )को रात्रि 11बजे समाधि मरण किया।
(18) ……..नवीन वेदी की भूमिका बनी।
पंचायती बड़ा मंदिर, पाटन जिला जबलपुर (मध्य प्रदेश)

विवरण (10) 05/06/2020

ताम्रपत्र ग्रंथ विराजमान हुए 50 स्थानो पर।
आचार्य श्री 108 विद्या सागर जी महाराज के 50वें मुनि दीक्षा दिवस “संयम स्वर्ण महोत्सव” पर 50 स्थानों पर ताम्रपत्र ग्रंथ तत्त्वार्थ सूत्र, रत्नकरंडक श्रावकाचार , द्रव्यसंग्रह ,इष्टोंपदेश ,भक्तामर स्तोत्र ,श्रुत स्कन्ध,तीन लोक, समवशरण, आचार्य श्री विद्या सागर जी का चित्र एवं परिचय सान्निध्य/ प्रेरणा/मार्गदर्शन
आचार्य श्री 108 विद्यासागर जी महाराज के शिष्य
मुनि श्री 108 विमलसागर जी महाराज
मुनि श्री108 अनन्तसागर जी महाराज
मुनि श्री108 धर्मसागर जी महाराज
मुनि श्री108 अचलसागर जी महाराज
मुनि श्री108 अतुलसागर जी महाराज
मुनि श्री 108भावसागर जी महाराज
इन स्थानो पर विराजमान हुए,

औरंगाबाद,सूरत,जयपुर, रायपुर,जगदलपुर,भिलाई, दुर्ग ,राजनांदगांव,मंडला, सिवनी,छपारा,छिंदवाड़ा , पिंडरई, केवलारी ,घंसौर, ललितपुर,सागर,रहली, महाराजपुर देवरी, बिलहरा, बिलासपुर, डिंडोरी, चांदपुर ,शहपुरा ( भिटौनी) ,सतना ,खितौला ,नागपुर, गौरझामर ,खुरई, सिलवानी ,धनौरा ,बेंगलुरू, सिंग्रामपुर ,चरगुंवा ,सहजपुर, पनागर,भोपाल,कोतमा , कटंगी ,बालाघाट ,सीहोरा, नरसिंहपुर,आरोन,गोटेगाँव, बबीना, टीकमगढ़,लखनादौन,बुढ़ार, दमोह आदि स्थानों पर विराजमान किये गए।

विवरण (11) 05/06/2020

मुनि श्री 108विमल सागर जी महाराज ससंघ के सान्निध्य / प्रेरणा /मार्गदर्शन में हुए दशलक्षण पर्व पर श्रावक संस्कार शिविर ।
(1)2 से11सितंबर2011 रहली जिला सागर (मध्य प्रदेश)
(2 )6 से 15 सितंबर 2016 मंडला (मध्यप्रदेश)
(3) 26 अगस्त से 5 सितंबर 2017, छपारा जिला सिवनी (मध्य प्रदेश)
(3) 14 से 24 नवंबर 2018, गौरझामर जिला सागर (मध्यप्रदेश)
(4) 3 से 12 सितंबर 2019, करेली जिला नरसिंहपुर (मध्यप्रदेश)
इन शिविरों में रहकर श्रावकों ने तप, नियम , ध्यान , सामायिक, पाठ, जाप, साधना, स्वाध्याय, उपवास आदि करके अपनी जीवन शैली में परिवर्तन किया है।

विवरण (12) 05/06/2020

मुनि श्री108 विमल सागर जी महाराज ससंघ के सान्निध्य / प्रेरणा/ मार्गदर्शन में हुए ग्रीष्मकालीन ज्ञान संस्कार शिविर
(1) 26 मई से 5 जून 2016, शहपुरा भिटोनी जिला जबलपुर(मध्यप्रदेश)
(2) 11 जून 2017, सिवनी (मध्य प्रदेश)
(3) 24 मई से 3 जून 2018, गोटेगांव जिला नरसिंहपुर (मध्य प्रदेश)
इन शिविरों में प्रवेश लेकर अवाल वृद्ध ने ज्ञान, ध्यान , स्वाध्याय, पाठ आदि करके जीवन परिवर्तन किया है।

विवरण (13) 05/06/2020

मुनि श्री 108विमल सागर जी महाराज ससंघ के सान्निध्य/ प्रेरणा /मार्गदर्शन में लगे”संयम स्वर्ण महोत्सव ध्यान योग शिविर”
छपारा जिला सिवनी (मध्य प्रदेश) रामटेक (महाराष्ट्र), बरेली, (बाड़ी) ( मध्य प्रदेश)
छिंदवाड़ा (मध्य प्रदेश)
केवलारी जिला सिवनी (मध्य प्रदेश)
तेंदूखेड़ा जिला दमोह (मध्य प्रदेश) ,सम्मेद शिखर जी, चौरई, मंडी बामोरा, गंजबासौदा
मंडला( मध्य प्रदेश)
शहपुरा भिटोनी जिला जबलपुर( मध्य प्रदेश)आदि स्थानों पर शिविर आयोजित किए गए।

विवरण (14) 05/06/2020

मुनि श्री 108 विमल सागर जी महाराज ससंघ के सान्निध्य में आए देश प्रदेश के शासन, प्रशासन के महानुभाव (सन् 2009 से 2020 तक)
(1) मध्यप्रदेश शासन के वित्त मंत्री श्री जयंत मलैया चातुर्मास 2015, तेंदूखेड़ा जिला दमोह (मध्य प्रदेश)।
(2) श्री कमलनाथ जी सांसद छिंदवाड़ा (मध्य प्रदेश) महावीर जयंती 2017 के अवसर पर छिंदवाड़ा।
(3) 5 जुलाई 2019 को करेली जिला नरसिंहपुर (मध्य प्रदेश) में हर्षित जैन एमआईटी पुणे ने दर्शन किए | इन्होंने 26 देशों की यात्रा की है एवं 154 देशों के रिसर्च की स्पीच हुई है इन्होंने मार्गदर्शन प्राप्त किया|
(4) “विश्व अहिंसा दिवस ” कार्यक्रम में 2 अक्टूबर 2019, सुभाष मैदान, करेली जिला नरसिंहपुर (मध्य प्रदेश) में राज्यसभा सांसद माननीय श्री कैलाश सोनी जी नरसिंहपुर (मध्य प्रदेश) , विधायक श्री जालम सिंह पटेल तेंदूखेड़ा (नरसिंहपुर) मध्य प्रदेश, विधायक संजय शर्मा आए|
(5) माननीय श्री उदय राव प्रताप सिंह लोकसभा सांसद होशंगाबाद , 1 नवंबर 2019 पंचकल्याणक महोत्सव करेली जिला नरसिंहपुर (मध्य प्रदेश)।
(6) राज्यसभा सांसद एवं पूर्व मुख्यमंत्री (मध्य प्रदेश) माननीय श्री दिग्विजय सिंह एवं मध्य प्रदेश शासन के विधानसभा अध्यक्ष माननीय श्री एनपी प्रजापति नवंबर 2019 पंचकल्याणक महोत्सव ,करकबेल जिला नरसिंहपुर (मध्य प्रदेश) में आए|
(7) मध्यप्रदेश शासन के कैबिनेट मंत्री माननीय श्री हर्ष यादव जी ने 31 दिसंबर 2019 को श्री शांति धाम दिगंबर जैन अतिशय क्षेत्र बीना बारह तहसील देवरी जिला सागर (मध्यप्रदेश) के वार्षिक मेला का ध्वजारोहण किया ।

विवरण (15) 05/06/2020

मुनि श्री 108विमल सागर जी महाराज ससंघ के सान्निध्य / प्रेरणा /मार्गदर्शन में हुए पृथक कलशारोहण समारोह (सन् 2009 से 2020 तक)
(1) 2014 कलशारोहण श्री आदिनाथ दिगंबर जैन मंदिर, गुगबारा गौरझामर जिला सागर (मध्य प्रदेश)
(2) 2016 ध्वज दंड स्थापना श्री दिगंबर जैन बड़ा मंदिर, घंसौर जिला सिवनी (मध्य प्रदेश)
(3) 24/4/ 2019 कलशारोहण श्री दिगंबर जैन मंदिर, विजय नगर, दमोह (मध्य प्रदेश)
(4) 29/04/2019 कलशारोहण श्री दिगंबर जैन मंदिर, जबलपुर नाका ,दमोह (मध्य प्रदेश)

विवरण (16) 06/06/2020

मुनि श्री 108 विमल सागर जी महाराज की उपवास साधना
कर्मदहन के 157 उपवास
चौसठ ऋद्धि के 65 उपवास
रोहिणी व्रत के 60 हो गए है व 8 शेष है।
अष्टाह्निका के 44 हो चुके है और जारी है।
मुनि श्री 108 अनंत सागर जी महाराज की उपवास की साधना
णमोकार मंत्र के 37 उपवास किये है।
मुनि श्री धर्म सागर जी महाराज की उपवास की साधना
चौबीस तीर्थंकर के 25 उपवास जल उपवास सहित किए।
चौसठ ऋद्धि के 65 उपवास किए।
कर्म दहन के 157 उपवास किए।
तत्वार्थ सूत्र के 10 उपवास किए।
मुनि श्री 108 अचल सागर जी महाराज की उपवास की साधना
चौसठ ऋद्धि के 65 उपवास
कर्म दहन के 157 उपवास
णमोकार मंत्र के 36 उपवास
भक्तामर स्तोत्र के उपवास जारी है।
मुनि श्री 108 भाव सागर जी की उपवास की साधना
64 ऋद्धि के 65 उपवास किये है।

बीना १९/०६/२०२०

विदेश से अच्छा अपना देश है-

मुनि श्री
सर्वश्रेष्ठ साधक आचार्य  श्री विद्यासागर जी महाराज के शिष्य  
मुनि श्री विमल सागर जी,
मुनि श्री अनंत सागर जी, 
मुनि श्री धर्म सागर जी,
मुनि श्री अचल सागर जी, 
मुनि श्री भाव सागर जी महाराज
 श्री नाभि नंदन दिगंबर जैन मंदिर इटावा बीना जिला सागर (मध्य प्रदेश) में विराजमान है ।
चर्चा करते हुए मुनि श्री अचल सागर जी ने बताया कि , आज कोरोना वायरस से पूरी दुनिया प्राभावित् है l जिस व्यक्ति को जीने की कला नहीं आयी उसका जन्म और मरण दोनों व्यर्थ हैl धर्म के माध्यम से ही जीने की कला आती है l पहले से ही श्रद्धा, आस्था कम थी अब कोरोना के कारण धर्म से दूर हो गए है l रोग आते है तो शिक्षा देकर जाते है कि हम अपने जीवन को परिवर्तित करे l पुण्य बढ़ेगा तो रोग दूर हो जायेंगे l २४ घंटे कोरोना के समाचार सुनकर इससे सावधान होकर पुण्य के कार्य करे l धर्म ही सही वीमा है; जो जीवन के साथ भी है और जीवन के वाद भी है l
मुनि श्री विमल सागर जी ने धर्म चर्चा मै वताया की काय की चिकित्सा के लिए आयुर्वेद की रचना की है l और मन की चिकित्सा के लिए अध्यात्म ग्रंथों की रचना की है l बहुत सारे लोग विदेश गए थे धन कमाने के लिए लेकिन कोरोना के कारण परेशानी आ गई विदेश से अच्छा अपना देश है l जिसके जीवन में धर्म वृद्धि होती जाएगी सभी वृद्धि होती जाएँगी l
प्रेषक-
रितेश मिडला ९९८१०४८५३९
विकास सिंघई ९२०२४०४८२९

बीना 20/06/2020

देश की रक्षा में जो शहीद हुए हैं उनके प्रति सहानुभूति रखें

मुनि श्री
सर्वश्रेष्ठ साधक आचार्य  श्री विद्यासागर जी महाराज के शिष्य  
मुनि श्री विमल सागर जी,
मुनि श्री अनंत सागर जी, 
मुनि श्री धर्म सागर जी,
मुनि श्री अचल सागर जी, 
मुनि श्री भाव सागर जी महाराज
 श्री नाभि नंदन दिगंबर जैन मंदिर इटावा बीना जिला सागर (मध्य प्रदेश) में विराजमान है ।
धर्म चर्चा करते हुए मुनि श्री भाव जी सागर जी महाराज ने बताया कि कोरोना से पूरी दुनिया परेशान है लेकिन इससे डरना नहीं है सावधानी रखना है l यह उम्र, जाति, अमीर- गरीब को नहीं देखता है। किसी पर भी आक्रमण कर सकता है। शासन प्रशासन के द्वारा बतायी गयी सावधानियां रखना है। यह बीमारी बरसात में और बढ़ सकती है । आप भाव से पूजा, भक्ति, स्त्रोत ,पाठ, जाप करते रहे और दर्शन भी करें। पंचम काल के अंत तक धर्म लगभग 18500 वर्ष तक रहेगा इस काल में परेशानियां तो आएंगी , और धर्म भी अंत तक रहेगा ।देश की रक्षा में जो शहीद हुए हैं उनके प्रति सहानुभूति रखें और शांति धारा में उनका स्मरण करें । आपको स्वदेशी वस्तुएं अपनाना है । आज आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज का 53 वा मुनिदीक्षा दिवस पूरे विश्व में 25 जून को मनाया जाएगा। आप अपने घर पर अच्छे से यह मनाएं । आज हम गौशाला देखने गए थे उसको अति शीघ्र नवीन स्थान पर बनाना है जिससे गौ रक्षा हो सके ।आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज की प्रेरणा से पांच स्थानों पर विश्व की श्रेष्ठ शिक्षा स्थली संचालित हो रही है जिसके माध्यम से बालिकाओं को शिक्षा, संस्कार एवं सुरक्षा मिल रही है। अच्छा बोलने वाले से सभी प्रभावित होते हैं । प्रातः काल उठने से ऑक्सीजन मिलती है जिससे फेफड़े अच्छे रहते हैं और कोरोना से बचाव होता है । धर्म चर्चा मे मुनि श्री विमल सागर जी महाराज ने बताया कि, जो प्रभु और गुरु की भक्ति करता है वह बहुत कुछ प्राप्त कर लेता है । एक सच्चे प्रभु के भक्त की मदद करने से बहुत पुण्य का अर्जन होता है ।जो गुरु की सेवा करता है, दान देता है , पूजन भक्ति करता है , बहुत पुण्य का अर्जन कर लेता है । परिवार के साथ रहना पुण्य के उदय से होता है ।एक साथ परिवार मिलकर धार्मिक क्रियाएं करता हैं तो बहुत अच्छा माना जाता है ।अपने देश की रक्षा करने वाला उत्तम पुरुष माना गया है । आचार्य श्री ने भारत की संस्कृति को सुरक्षित रखने के लिए हजारों ब्रह्मचारिणी बहनों को शिक्षा के लिए समर्पित किया है । बालिकाओं की सुरक्षा महत्वपूर्ण है । दुनिया में अन्य जगह ऐसी शिक्षिका नहीं मिलेंगी । अच्छी बात अपना लेते हैं तो जीवन बहुत सुंदर बन सकता है । विषय भोगो के लिए बहुत मेहनत करते हैं और इनको छोड़ना कठिन कार्य होता है । श्वास का भरोसा नहीं रहता है ।
प्रेषक-
रितेश मिडला ९९८१०४८५३९
विकास सिंघई ९२०२४०४८२९

बीना 22/06/2020

आप को धन ज्यादा महत्व देते हैं या धर्म को मुनि श्री-

सर्वश्रेष्ठ साधक आचार्य  श्री विद्यासागर जी महाराज के शिष्य  
मुनि श्री विमल सागर जी,
मुनि श्री अनंत सागर जी, 
मुनि श्री धर्म सागर जी,
मुनि श्री अचल सागर जी, 
मुनि श्री भाव सागर जी महाराज
 श्री नाभि नंदन दिगंबर जैन मंदिर इटावा बीना जिला सागर (मध्य प्रदेश) में विराजमान है ।
धर्म चर्चा करते हुए मुनि श्री अचल सागर जी ने कहा कि एक तोता था जो सोच रहा है कि आजाद हो जाऊं |आप धन को ज्यादा महत्व देते हैं या धर्म को को ज्यादा महत्व देते हैं | दिन-रात उठते बैठते आप धन के चक्कर में रहते हैं |आप जीने के लिए खाए खाने के लिए नहीं जिए| एक व्यक्ति जीने के लिए पैसा कमा रहा है ,और एक व्यक्ति पैसा कमाने के लिए जी रहा है | आत्मा के बारे में हम जरूर जागरूक हो जाएं , तो कल्याण हो जाए | जो मैं काम कर रहा हूं अपनी आत्मा के लिए कर रहा हूं, ऐसे भाव आएंगे तभी कल्याण होगा |
धर्म चर्चा में मुनि श्री विमल सागर जी ने कहा कि जहां संत जाते हैं , वहां बसंत आ जाता है |आज टीवी मोबाइल के कारण संस्कार बिगड़ते जा रहे हैं |
प्रेषक-
रितेश मिडला ९९८१०४८५३९
विकास सिंघई ९२०२४०४८२९

बीना 23/06/2020

मुनि श्री प्रसाद सागर जी का ससंघआगमन एवं बिहार हुआ

सर्वश्रेष्ठ साधक आचार्य  श्री विद्यासागर जी महाराज के शिष्य  
मुनि श्री विमल सागर जी,
मुनि श्री अनंत सागर जी, 
मुनि श्री धर्म सागर जी,
मुनि श्री अचल सागर जी, 
मुनि श्री भाव सागर जी महाराज
 श्री नाभि नंदन दिगंबर जैन मंदिर इटावा बीना जिला सागर (मध्य प्रदेश) में विराजमान है ।
23 जून को प्रातः काल मुनि श्री प्रसाद सागर जी , मुनि श्री उत्तम सागर जी, मुनि श्री शैल सागर जी, मुनि श्री पुराण सागर जी, मुनि श्री निकलंक सागर जी, का आगमन इटावा जैन मंदिर में हुआ| सभी ने जगह-जगह घर से आरती उतारी एवं मंदिर में मुनि श्री कुछ घंटे रहे | इसके पश्चात दोपहर में खुरई की ओर बिहार हो गया | 23 जून को रात्रि विश्राम गुरहा जी के फार्म हाउस में होगा |प्रातः काल 24 जून को खुरई में प्रवेश होगा | सभी ने मासक लगाकर, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए अगवानी की | इस अवसर पर धर्म चर्चा में मुनि श्री निकलंकसागर जी महाराज ने कहा कि आपको 10 दिगंबर मुनिराज के दर्शन हुए हैं |बीना जंक्शन पर ट्रेन आती हैं एवं चली जाती हैं |जैसा बीना देखा था उससे कई गुना बड़ा हो गया हैl जो दूसरों की निंदा नहीं करता और अपनी आत्मा का चिंतन करता है वह विशेष है |दूसरों की निंदा और अपनी प्रशंसा करने से विशेष कर्म का बंध होता है l साधु की संगति से पाप आदि नष्ट हो जाते हैं l
मुनि श्री विमल सागर जी ने कहा कि बीना जंक्शन सार्थक हो रहा है l मुनि श्री प्रसाद सागर जी सेवा- वैयावृत्ति में कुशल है l वह पुण्यशाली है जिन्होंने निहार के लिए भूमि दान दी l मुनि श्री बहुत कुशलता से कार्य करते हैं l तीर्थों में निवास करना सारभूत है, आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज प्रायः तीर्थों में ही चतुर्मास करते हैं l वह जहां चातुर्मास करते हैं वहां तीर्थ बन जाते हैं l सबसे ज्यादा संघ में रहने का सौभाग्य मुनि श्री प्रसाद सागर जी , महाराज मुनि श्री उत्तम सागर जी महाराज को प्राप्त हुआ है l 10 मुनिराजो का दर्शन मिला है हमारा सौभाग्य है l आप अपनी गाड़ी यहीं रोक ले और चातुर्मास यही हो जाए l अभी चातुर्मास पक्का नहीं है अभी बहुत समय है l इन मुनिराज का उपकार हमारे ऊपर बहुत है l पिछले वर्ष चातुर्मास दूसरे स्थान का मिला था लेकिन परिवर्तित हो गया था lमुनि श्री उत्तम सागर जी ने धर्म चर्चा मे कहा कि दान , पूजा और विधान श्रावको का संविधान है l
मुनि श्री प्रसाद सागर जी ने कहा कि जिंदगी एक पड़ाव है मोक्ष जाने के लिए l हम सभी जन्म लेते हैं , इंजॉय करते हैं और चले जाते हैं अपनी जिंदगी से बुराइयों को घटा दीजिए l हमें चतुर्मास के पहले 5 महाराज के दर्शन दमोह में हुए थे तो हमारा भोपाल में चतुर्मास अच्छा रहा l जंगल की भूमि के लिए जिन लोगों ने दान की स्वीकृति दी है वे बहुत साधुवाद के पात्र हैं l आचार्य भगवान के आशीर्वाद से पांच प्रतिभास्थली प्रारंभ हुई हैl यदि संस्कार जीवित है ,तो भारत रहेगा हमारे पूर्वजों ने जो संस्कार दिए हैं , वह जीवित रखना है l 25 जून को आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज का मुनि दीक्षा दिवस है l ऐसे आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज जो उत्तम भावों से अच्छी भावना भातें रहते हैं l आचार्य श्री बातों बातों में आगम युक्ति से सब कुछ बता देते हैं l पुनः मुनि राजों के दर्शन हुए हैं तो आगामी चातुर्मास अच्छा संपन्न होगा l
प्रेषक-
रितेश मिडला ९९८१०४८५३९
विकास सिंघई ९२०२४०४८२९

बीना 25/06/2020

देश का सबसे मूल्यवान खजाना होता है युवा_

मुनि श्री
सर्वश्रेष्ठ साधक आचार्य गुरूवर श्री विद्यासागर जी महा मुनिराज के आज्ञानुवर्ती शिष्य
मुनि श्री विमल सागर जी मुनिराज,
मुनि श्री अनंत सागर जी मुनिराज,
मुनि श्री धर्म सागर जी मुनिराज,
मुनि श्री अचल सागर जी मुनिराज,
मुनि श्री भाव सागर जी मुनिराज
-श्री पार्श्वनाथ दिगंबर जैन मंदिर चौबीसी जिनालय बड़ी बजरिया बीना जिला सागर (मध्य प्रदेश) में विराजमान है।
मुनि श्री भावसागर जी ने मुनि दीक्षा दिवस पर कहा कि आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज का 53 वा दीक्षा दिवस है । उन्होंने निर्दोष ब्रह्मचर्य व्रत का पालन करके एक महान कार्य किया है। देश का सबसे बहुमूल्य खजाना होता है युवा , युवा शक्ति देश के लिए अमूल्य निधि के समान है। युवावस्था जीवन का सबसे बेहतर समय है। भारत में 15 से 30 वर्ष के बालक को युवा माना जाता है। देश में नेतृत्व हमेशा लगभग 1% लोग करते हैं 90% लोग उन 1% लोगों की मुख्य शक्ति होते हैं तथा 80% लोग इन 10% लोगों का अनुसरण करते हैं ।
ऐ मेरे जवानों असंभव को संभव करने की अपार क्षमता सामर्थ व ऊर्जा हमारे भीतर समाहित है ।
बाल के भाल पर अपनी शक्ति साहस ब शौर्य से नया इतिहास लिखो ।
मैं अकेला क्या कर सकता हूं इसके बजाय हमेशा यह सोचे कि मैं क्या नहीं कर सकता ।
दुनिया में कुछ भी असंभव नहीं सबl
सब कुछ संभव है ।
यही जीवन देश, धर्म, समाज सेवा के लिए मिला है !
आचार्य श्री जी ने भी ऐसा ही किया है।
आचार्य श्री की भावना है कि इंडिया को भारत बोला जाए,
हिंदी भाषा को विशेष महत्व दिया जाए
गायों की रक्षा की जाए
स्वदेशी वस्तुओं को महत्त्व दिया जाय। सभी लोगों को पूर्ण आयु प्राप्त हो जाए इसी उनकी भावना है।
कोरोना अतिशीघ्र वापस चला जाए ऐसी उनकी भावना है
लोकनतिक देव बन कर एक भव में मोक्ष प्राप्त करें ।
दीक्षा का अर्थ होता है इंद्रियों का दमन। एड्रेस और ड्रेस का बदल जाना और मंच और लंच का बदल जाना।
आचार्य श्री तीर्थंकर बनने की ओर अग्रसर हैं ।
आचार्य श्री एवं सभी साधु बोल रहे हैं कि आप सभी शासन, प्रशासन के नियमों का पालन करें ,
सोशल डिस्टेंस रखें ,
मास्क लगाएं
धार्मिक क्रियाएं स्थिति ,परिस्थिति को देखकर करें ,
आचार्य श्री को गरीब ,अमीर सभी की चिंता रहती है।
जो प्रभु का घर( मंदिर )बनाता है उसका घर भी अवश्य बन जाता है
मुनि श्री अचल सागर जी ने कहा कि गुरु के बारे में बोलने को हमारे पास शब्द नहीं है ।
उनकी भक्ति करना सबके बस की बात नहीं है ।
आचार्य श्री पंचम काल के सर्वश्रेष्ठ साधक हैं ।
गुरु के उपकार को कभी भुलाया नहीं जा सकता
प्राचीन आचार्यों का इतिहास में महत्व है ।
आचार्य श्री की निर्दोष चर्या की परीक्षा एक विद्वान ने चुपचाप की लेकिन कुछ भी दोष नजर नहीं आया था।
आचार्य श्री की असाधारण वाणी है वाक् सिद्धि है उनको ।
उनका आचरण असाधारण है
गुरु अचेतन को चेतन धाम बनाते हैं। मूक माटी महाकाव्य लिखना साधारण बात नहीं है ।
ज्ञात हो कि मूक माटी पर पीएचडी डी लिट
, एम आदि हुई है
एवं देश के प्रमुख 283 विद्वानों ने अपनी समीक्षाएं लिखीं हैं
आचार्य श्री के दर्शन हेतु जबलपुर में एक मुख्यमंत्री का आना हुआ लेकिन बहुत देर बैठने के बाद भी आचार्य श्री कुछ पढ़ रहे थे तो उन्होंने चर्चा नहीं की और बिना चर्चा के वापस जाना पड़ा।
आज आचार्य श्री का ऑरा नापा तो सर्वाधिक निकला ।
आचार्य श्री ने जैन धर्म को बहुत आगे बढ़ाया है।
आचार्य श्री की महिमा का वर्णन करना हर किसी के बस की बात नहीं है।
मुनि श्री अनंत सागर जी ने गुरु के चरणों में भावांजलि अर्पित करते हुए बताया कि आचार्य श्री विद्यासागर जी का दीक्षा योग है जिसमें विवाह के बाद दीक्षा वाली व्यवस्था नहीं है।
आचार्य श्री के समय के मिनटो की कीमत होती है।
वह निराले संत है ।
ब्रह्मचारी अवस्था में गुरु ज्ञान सागर जी महाराज से मिलने की इतनी उत्कंठा थी कि भूख प्यास भी भूल गए और 2 दिन के उपवास हो गए थे।
गर्मी में भी रात्रि कठिनता से व्यतीत हुई थी ।
पूज्य ज्ञान सागर जी महाराज दीक्षा के पूर्व लोगों से परीक्षण करवाते थे
कि चरिया में यह सही है या नहीं, ज्ञान सागर जी महाराज ज्योतिष के ज्ञाता थे ।
उन्होंने पहले ही ब्रह्मचारी अवस्था में देख लिया था कि यह विद्याधर आगे मुनि विद्यासागर बनकर पूरी दुनिया में धर्म का डंका बजाएगा ।
बिनोली में 19 हाथी थे ।आचार्य श्री की अद्भुत दीक्षा हुई थी। समता की पराकाष्ठा आश्री विद्यासागर जी में देखी जाती है ।जो दीक्षा का विरोध कर रहे थे उन्हीं के यहां उपवास की पारणा हुई थी ।पारणा में मुनि श्री विद्यासागर जी ऐसे लग रहे थे।
जैसे बरसों के साधक हो। पूज्य ज्ञान सागर जी ने कहा था कि यह काया 5 वर्ष टिक गई तो हम बताएंगे कि मुनि विद्यासागर क्या व्यक्तित्व है।
विश्व प्रसिद्ध योगाचार्य ने जबलपुर में कहा था,
कि मैंने अनेकों संत देखे हैं लेकिन आचार्य श्री विद्यासागर जी निर्विवाद संत है ।
मुनि श्री विमल सागर जी ने गुरु महिमा का वर्णन करते हुए बताया कि उनके गुरु ने कहा था कि मुनि विद्यासागर महाराज की चरिया चतुर्थ कालीन है । उनकी ध्यान अवस्था को देखते हैं तो आश्चर्य कारी चरिया लगती है ।मुनि श्री अचल सागर जी ने विभिन्न आचार्यों के नाम लिए हैं। इस कलिकाल में एक ही संघ है जिसमें प्रायः सभी दीक्षित साधु बाल ब्रह्मचारी हैं। इन विषयों के बीच में दिगंबरतव को सुरक्षित रखना अतिशय कारी है ।यथार्थ रूप का दर्शन पुण्य कारी होता है। वह बिना नमक, मीठे ,हरे फलों के बिना भी ऐसे भोजन करते हैं जैसे 56 तरह के भोजन कर रहे हो । उनकी अंतरंग की शुद्धि से सभी अशुद्धियां दूर हो जाती हैं । गुरुदेव अपने गुरुदेव के प्रति कितने समर्पित थे इससे बड़ा गुरु सेवा का उदाहरण देखने को नहीं मिलता है ।गुरुदेव के प्रति निष्ठा ,भक्ति, सेवा का फल जो वह आगे बढ़ते जा रहे हैं। मुनि श्री भाव सागर जी की अच्छी भावना रहती है वह कह रहे हैं कि सभी ब्रह्मचारी , ब्रह्मचारिणीयों की दीक्षा आचार्य श्री के कर कमलों से हो जाए ।सर्वश्रेष्ठ मंत्र विश्वास है। उनकी छवि मंत्र का काम कर जाती है। आपको कुछ भी नहीं आता है तो भी तर जाओगे लेकिन विश्वास रखो।
आचार्य श्री ने कहा था कि अपने हृदय में णमोकार मंत्र को रखना तो कल्याण हो जाएगा। संतोष से बड़ा कोई धन नहीं होता है। जब दौलत के पीछे भागते थे तो वह दूर भागती थी लेकिन दौलत से दूर हो गए तो वह पीछे भागती है ।
वैराग्य ही परम भाग्य है। हम सभी का सौभाग्य है ऐसे महान गुरु मिले हैं ।
प्रेषक:-
अक्षय जैन(ईलू) बीना
मो-8889961116

बीना 01/07/2020

दान देने से पूरी दुनिया में प्रसिद्धि फैलती है-मुनि श्री

सर्वश्रेष्ठ साधक आचार्य गुरूवर श्री विद्यासागर जी महा मुनिराज के आज्ञानुवर्ती शिष्य
मुनि श्री विमल सागर जी मुनिराज,
मुनि श्री अनंत सागर जी मुनिराज,
मुनि श्री धर्म सागर जी मुनिराज,
मुनि श्री अचल सागर जी मुनिराज,
मुनि श्री भाव सागर जी मुनिराज
-श्री पार्श्वनाथ दिगंबर जैन मंदिर चौबीसी जिनालय बड़ी बजरिया बीना जिला सागर (मध्य प्रदेश) में विराजमान है।
-धर्म चर्चा करते हुए मुनि श्री भाव सागर जी ने कहा है कि दान से व्यक्ति की प्रसिद्धि दुनिया में फैलती है।भामाशाह का उदाहरण देकर बताया कि वह भी प्रसिद्धि को प्राप्त हुआ।मंदिर के लिए दान देने वाला महान होता है। पाषाण के जिनालय बनाने वाला अनंत गुना पुण्य प्राप्त करता है।पुण्य कार्यों का धार्मिक कार्यों का विज्ञापन,प्रचार,प्रसार होना चाहिए।दान देने से व्यक्ति कभी गरीब नहीं होता है। मनुष्य के धन की तीन गति होती है दान,भोग और नाश। उत्कृष्ट 25% मध्यम 70% जघन्य ने 10% अपनी कमाई का इतने प्रतिशत दान देना चाहिए। कोरोना रोग चल रहा है जीवन का कोई भरोसा नहीं है प्रतिदिन धार्मिक क्रियाएं अच्छे से करें, विशेष सावधानी रखें,शासन-प्रशासन भी सावधान कर रहा है।यदि आप के कारण किसी को कोरोना हो जाता है तो मंदिर आदि बंद हो जाते हैं तो आपको भी दोष लगेगा। लोग भजन में बोलते हैं छोटा सा मंदिर बनाएंगे और हम कहते हैं कि भावना भावना चाहिए कि बड़ा सा मंदिर बनाएंगे। व्यक्ति की प्रसिद्धि फोटो और नाम से होती है।जो भी व्यक्ति मंदिर की पूजन आदि की व्यवस्था करता है विशेष पुण्य शाली होता है। कंजूस सबसे बड़ा दानी होता है क्योंकि वह सब कुछ छोड़ जाता है और दूसरे लोग उपयोग करते हैं।जो मंदिर में प्रतिमा विराजमान करवाता है और मंदिर के लिए जो भी दान देता है उसकी महिमा का वर्णन करने के लिए कोई समर्थ नहीं है। कोरोना के कारण जीवन का कोई भरोसा नहीं है। आप मेरी भावना में पढ़ते हैं लाखो वर्षों तक जीऊ या मृत्यु आज भी आ जावे।आने वाली पीढ़ी महंगे मोबाइल,कार, मकान, दुकान टीवी ,वॉशिंग मशीन आदि तो खरीदेगी लेकिन मंदिर शायद नहीं बनवा पाए इसलिए जो भी आज पाषाण की धातु की प्रतिमा विराजमान कर रहे हैं पाषाण के मंदिर बनवा रहे हैं पुण्यशाली हैं।मुनि श्री विमल सागर जी महाराज ने धर्म चर्चा में कहा कि अभी आप मुनि भाव सागर जी को सुन रहे थे इनका विषय का एपिसोड पहला एक नगर में होता है दूसरा एपिसोड दूसरे नगर में होता है। जिन नगरों का विशेष पुण्य होता है उन्हीं नगरों में साधु आते हैं। कंजूसों का धन दूसरे ही उपयोग कर पाते हैं धर्म के क्षेत्र में यदि धन को वो दिया तो वह अनंत गुना फलता है। जो दान करता है उसका स्वर्ग में देव इंतजार करते हैं।यह तीन चीजें चिंता,निद्रा,क्षुधा आदि एक दूसरे से जुड़ी हुई हैं।पुण्य से ही पुण्य का बंध होता है।जो धन वैभव पाकर उसका सदुपयोग करते हैं वह पुण्य शाली होते हैं। चक्रवर्ती भी विषयों में आसक्त होकर दुर्गति को प्राप्त हो सकता है। धार्मिक अनुष्ठान में दोष कम लगता है लेकिन पुण्य का बंध होता है।अच्छे कार्यों का निषेध नहीं करना चाहिए। जो दान नहीं करते हैं वह दरिद्र हो जाते हैं।जिन्होंने प्रभु की महिमा समझी है वही अच्छे कार्य करते हैं। अपने घर तो अच्छे बनाते हैं और मंदिर बनाने के लिए विभिन्न तरह के विकल्प उत्पन्न करते हैं। एक बार भोपाल में एक व्यक्ति ने मंदिर के लिए दान दिया जो सामर्थ नहीं रखता था फिर भी दिया जिस दिन उदारता आ जाती है सब कार्य सिद्ध हो जाते हैं। विदेशों में आरसीसी के मकान 60 वर्ष बाद धरासाई कर दिए जाते हैं।
प्रेषक अक्षय जैन(ईलू)बीना
मो.-8889961116
अंकित जैन मोदी
मो.-+91 78280 05005

आगे आने वाले मैटर

जैनत्व की गौरव गाथा भाग 1, 2
जिन सरस्वती हिन्दी पी डी एफ
णमोकार मन्त्र की महिमा
S.S.V.B.सूतक समाधान विशेष बिन्दु
आचार्य संघ दिनचर्या
आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज प्रवचन / स्वाध्याय / ऑडियो एवं वीडीयो लिंक
आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज संबंधी विशेष तिथियों की जानकारी
ससंघ दर्शन केलेन्डर
साधुओं की वैयाव्रत्ति कैसे करें
सर्वश्रेष्ठ उद्ववोधन कैसा हो
आहार दान निर्देशिका M.B.A.C.
NENO POOJA
सूतक मे क्या करें क्या नहीं
किसी की मरण समाधि में शामिल होनें पर क्या करें
अधूरी कवितायें
सतर्क हो जायें अब नरकों का वर्णन
आत्मा परमात्मा
दान चिंतामणी
जिन सरस्वती अग्रेजी
संपर्क सूत्र
1 संगीत कार
2 वेदी निर्माणकर्ता
3 शिखर निर्माणकर्ता
4 प्रतिमा निर्माणकर्ता
5 मार्बल मन्दिर निर्माणकर्ता
6 आर्किटेक्ट
7 इंजीनियर
8 वास्तुविद
9 मंगल कलश, ध्वजा, शिखर कलश, छत्र, चमर, भामंडल, टडित चालित यंत्र, ताम्र पत्र ग्रंथ

बीना 04/07/2020

सीना तो तानों पसीना तो बहाओ सही मार्ग में-

मुनि श्री
करोड़ों-अरबों खर्च करने के बाद भी गुरुओं का उपदेश प्राप्त नहीं हो पाता है,गुरुओं को भक्ति श्रद्धा से प्रसन्न कर सकते हैं।
सर्वश्रेष्ठ साधक आचार्य गुरूवर श्री विद्यासागर जी महा मुनिराज के आज्ञानुवर्ती शिष्य
मुनि श्री विमल सागर जी मुनिराज,
मुनि श्री अनंत सागर जी मुनिराज,
मुनि श्री धर्म सागर जी मुनिराज,
मुनि श्री अचल सागर जी मुनिराज,
मुनि श्री भाव सागर जी मुनिराज
-श्री पार्श्वनाथ दिगंबर जैन मंदिर चौबीसी जिनालय बड़ी बजरिया बीना जिला सागर (मध्य प्रदेश) में चातुर्मास हेतु विराजमान है। मुनि संघ ने भक्तियां पढ़ कर चातुर्मास की स्थापना की कलश स्थापना 8 जुलाई को दोपहर 1:30 पर होगी। यह ब्रह्मचारी नितिन भैया जी इंदौर के निर्देशन में होगी। और 5 जुलाई को गुरु पूर्णिमा पर्व मनाया जायेगा घर घर आचार्य श्री जी की पूजन होगी आरती की जायेगी।
-धर्म चर्चा करते हुए मुनि श्री अचल सागर जी ने कहा कि हमारे जीवन में शांति आना चाहिए यदि शांति चाहते हो तो आसक्ति छोड़े। चातुर्मास करवाना चाहते हो तो शांति धारण करने का प्रयास करें। जो आप कर रहे हैं वह सही है यह सोचे। जीवन में शांति के उपाय के बारे में सोचना चाहिए। पैसा कमाने में ऐसे मस्त रहते हैं लेकिन फिर भी शांति नहीं मिलती है। मुनि श्री विमल सागर जी ने धर्म चर्चा में कहा कि विरले लोग होते हैं जो धर्म चर्चा करते हैं। सीना तो तानों पसीना तो बहाओं सही मार्ग में। सीना तो तानते हैं लेकिन सही मार्ग में नहीं। दुकानदारी विषय,भोगों में कितना पसीना बहाते हैं। धर्म पुरुषार्थ पूर्वक जो क्रियाएं की जाती है वह सही माना जाता है। चातुर्मास तो चाहिए है लेकिन आलसी नहीं बनना। 5 महीने धर्ममय जीवन बनाना है। आप जो भी कमाते हैं उस पर 25% माता-पिता का अधिकार होता है। यदि 50 वर्ष के हो गए हो तो अब धर्म कार्यों में लग जाओ। मोक्ष की प्राप्ति पुरुषार्थ मूलक होती है। टाल मटोल रवैया हमेशा परेशानी पैदा करता है। आलस के कारण कार्य की सिद्धि नहीं कर पाता है व्यक्ति। निद्रा के कारण भी कार्य की सिद्धि नहीं हो पाती है। प्रातः 4 से 5 बजे जो उठता है वह देव प्रकृति का है।आज कल व्यक्ति प्रातः काल 8-9 बजे तक सोते रहते हैं। कुशल कार्यों में अनादर करना प्रमाद है। सबसे बड़ा शत्रु प्रमाद है। अब आप लोगों को जागृत रहना है। आपको अपनी आत्मा को मंदिर बनाना है। बड़े-बड़े लोग भी वैभव के कारण अपना कल्याण नहीं कर पाते हैं। अभी सो रहे हैं सब व्यक्ति,सबको जगाओ। करोड़ों-अरबों खर्च करने के बाद भी गुरुओं का उपदेश प्राप्त नहीं हो पाता है। गुरुओं को भक्ति श्रद्धा से प्रसन्न कर सकते हैं। वर्तमान का किया गया पुरुषार्थ ही आगे भाग्य बनता है।
प्रेषक अक्षय जैन(ईलू) बीना
-मो.-8889961116
अंकित जैन मोदी बीना
78280 05005
अनिमेष जैन बीना
9399975776