1. जैनत्व
  2. जैनत्व की गौरव गाथा भाग 1, 2
  3. जिन सरस्वती हिन्दी
  4. णमोकार मन्त्र
  5. S.S.V.B.सूतक समाधान विशेष बिन्दु
  6. आचार्य संघ दिनचर्या
  7. ससंघ सूची भोपाल
  8. ससंघ सूची आचार्य श्री विद्यासागर जी
  9. आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज प्रवचन / स्वाध्याय / ऑडियो एवं वीडीयो
  10. ससंघ दर्शन केलेन्डर
  11. साधुओं की वैयाव्रत्ति कैसे करें
  12. सर्वश्रेष्ठ उद्ववोधन कैसा हो
  13. भगवती आराधना प्रवचन आचार्य श्री
  14. आहार दान निर्देशिका M.B.A.C.
  15. NENO POOJA
  16. सूतक मे क्या करें क्या नहीं
  17. किसी की मरण समाधी में शामिल होनें पर…
  18. अधूरी कवितायें
  19. सतर्क हो जायें अब नरकों का वर्णन
  20. आत्म परमात्मा
  21. दान चिंतामणी
  22. जिन सरस्वती अग्रेजी
  23. की गौरव गाथा भाग 1, 2
  24. जिन सरस्वती हिन्दी
  25. णमोकार मन्त्र
  26. S.S.V.B.सूतक समाधान विशेष बिन्दु
  27. आचार्य संघ दिनचर्या
  28. ससंघ सूची भोपाल
  29. ससंघ सूची आचार्य श्री विद्यासागर जी
  30. आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज प्रवचन / स्वाध्याय / ऑडियो एवं वीडीयो
  31. ससंघ दर्शन केलेन्डर
  32. साधुओं की वैयाव्रत्ति कैसे करें
  33. सर्वश्रेष्ठ उद्ववोधन कैसा हो
  34. भगवती आराधना प्रवचन आचार्य श्री
  35. आहार दान निर्देशिका M.B.A.C.
  36. NENO POOJA
  37. सूतक मे क्या करें क्या नहीं
  38. किसी की मरण समाधी में शामिल होनें पर…
  39. अधूरी कवितायें
  40. सतर्क हो जायें अब नरकों का वर्णन
  41. आत्म परमात्मा
  42. दान चिंतामणी
  43. जिन सरस्वती अग्रेजी

मुनि श्री विमल सागर जी महाराज ससंघ सानिध्य में हुए प्रभावक कार्य (विशेष प्रभावना)

मुनि संघ के सानिध्य में मध्य प्रदेश के बेलखेड़, इटारसी,जबेरा,बांदकपुर,देवरी कला में प्रथम बार फिर झलौन,बिलहरा, घंसौर,गौरझामर में आचार्य श्री ससंघ के साथ एवं सागर में निर्यापक मुनि श्री योग सागर जी ससंघ के साथ एवं बांदरी,बरोदिया कला,खितौला,करेली,करकबेल,देवरी कला में दूसरी बार पंचकल्याणक संपन्न हुए मुनि संघ के सानिध्य,प्रेरणा,मार्गदर्शन में मध्य प्रदेश के सिलवानी में मंदिर का शिलान्यास, गोपालगंज में पाषाण के विशाल जिनालय का भूमि पूजन,देवरी में विद्या विहार कॉलोनी में भूमि पूजन,खितौला में मंदिर का भूमि पूजन,तेंदूखेड़ा(पाटन) में विशाल मध्य प्रदेश का प्रथम मार्बल जिनालय का भूमि पूजन हुआ,पाटन में चंद्रप्रभु जिनालय के जीर्णोद्धार के लिए भूमि पूजन हुआ। शहपुरा भिटौनी में चंद्रप्रभु पंचायती मंदिर का भूमि पूजन और पिंडरई में पाषाण के जिनालय का भूमि पूजन हुआ छिंदवाड़ा में बड़े मंदिर का भूमि पूजन हुआ,गौरझामर में चंद्रप्रभु जिनालय के मार्बल के मंदिर का निर्माण कार्य जारी है एवं एमपी नगर में एक और पाषाण के मंदिर का भूमि पूजन हुआ करेली में जैसमलेर के विशाल जिनालय की भूमिका बनी। मुनि संघ के सानिध्य प्रेरणा, मार्गदर्शन में परम पूज्य आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के 50वे मुनि दीक्षा दिवस पर दीक्षा के 50 वर्ष पूर्ण होने के उपलक्ष्य में इन नगरों में संयम कीर्ति स्तंभ बनाए गए जिसमें प्रमुख नगर है पिंडरई,केवलारी,सिवनी,छिंदवाड़ा,करेली, गौरझामर,तारादेही,तेंदूखेड़ा(पाटन) लखनादौन,मंडला,सिलवानी आदि है। मुनि संघ के सानिध्य में सिवनी मध्य प्रदेश में आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के संयम स्वर्ण महोत्सव पर दिव्य ग्रंथ 120 ग्राम का शास्त्र बनाया गया और उसके साथ रजत शास्त्र,पीतल शास्त्र,ताम्रपत्र ग्रंथ बनवाए गए। खुरई जिला सागर मध्य प्रदेश में 700 वर्ष प्राचीन श्री आदिनाथ भगवान की 100 किलो चांदी से निर्मित बेदी की योजना बनाई गई। सकल दिगंबर जैन समाज देवरी के द्वारा 100 किलो चांदी से अधिक चांदी के रथ की योजना बनाई गई गौरझामर में भी रजत रथ की योजना बनाई गई। छपारा जिला सिवनी में भी रथ की योजना बनाई गई,छिंदवाड़ा गौशाला में विशाल मान स्तंभ का निर्माण हुआ। गौरझामर में आचार्य श्री विद्यासागर जी गौशाला का निर्माण हुआ,तेंदूखेड़ा(पाटन) गौशाला ने मुनि संघ के मार्ग दर्शन से मध्यप्रदेश में प्रथम स्थान प्राप्त किया। मुनि श्री के अनेक स्थानों पर ग्रीष्मकालीन प्रवास हुए और शीतकालीन प्रवास हुए जिनसे पूरे भारतवर्ष के लोगों ने लाभ लिया।